संसू, लोयाबाद: लोयाबाद दुर्गा मंदिर के समीप बीसीसीएल के एक आवास पर महिला द्वारा कब्जा जमाने को लेकर बुधवार की शाम जमकर हंगामा हुआ। सीआइएसएफ, पुलिस व कब्जाधारी महिलाओं के बीच करीब एक घंटे तक ड्रामा चला। आखिरकार सीआइएसएफ व पुलिस को बैरंग लौटना पड़ा। इसके बाद महिला अपने परिवार के साथ बंगले में शिफ्ट हो गई और गेट पर भाजपा का झंडा लगा दिया। महिला का पति बीसीसीएल कर्मी बताया जाता है। क्या है मामला:

प्रबंधक एस के बनर्जी की सेवानिवृत्ति के बाद दुर्गा मंदिर समीप उनका आवास निचितपुर के वरीय माइनिंग सरदार हसरत आलम को आवंटित हुआ। जब माइ¨नग अफसर उक्त आवास में अपना सामान लेकर रहने आए तो ऐन वक्त पर कनकनी की एक महिला तारा देवी भाजपा का झंडा लिए अपने परिवार के साथ वहां पहुंच गई। बंगले में प्रवेश करने के लिए अड़ गई। महिला अपने परिवार व सामान के साथ बंगले मे घुस गई। मामला को उलझता देख कोल अधिकारी अपना सामान लेकर वहां से चलते बने। हालांकि मामले की गंभीरता को देखते हुए बीसीसीएल प्रबंधन ने उक्त आवास को सीआइएसएफ को आवंटित कर दिया। सीआइएसएफ आवास को खाली कराने के लिए वहां पहुंची और महिलाओं को सामान सहित बंगले से बाहर कर दिया। महिलाओं ने इसका विरोध शुरू कर दिया और किसी भी कीमत पर आवास नही खाली करने पर अड़ गई। महिलाओं का कहना था कि बीसीसीएल प्रबंधन द्वारा उनका आवास तोड़कर कर उन्हें विस्थापित कर दिया गया है। अगर उन्हें रहने के लिए छत नहीं मिली तो पूरे परिवार को दर-दर भटकना पड़ेगा। इस बीच करीब एक घंटे तक हाई वोल्टेज ड्रामा चला। सीआइएसएफ की महिला बल व कब्जाधारी महिलाओं के बीच तीखी नोकझोंक हुई। इसी दौरान तारा देवी नामक महिला मौके पर ही गिर कर बेहोश हो गई, जिसके बाद उसके परिवार वाले आक्रोशित हो उठे और बेहोश महिला को उठाकर बंगले के भीतर ले गए। महिला के बेहोश होते ही मामला बिगड़ता देख सीआइएसएफ व पुलिस धीरे-धीरे वहां से खिसक गई।

Posted By: Jagran