फोटो- 21, 22,

बरोरा (धनबाद) : बीसीसीएल के बरोरा क्षेत्र अंतर्गत फुलारीटांड़ आउटसोर्सिग पैच में हाईवाल (ऊंची दीवार) से रविवार देर शाम अचानक भूस्खलन होने लगा। ऊपर से मलबा गिरने से वहां अफरातफरी मच गई। फेस में कोयला लेने गए 30 से 40 की संख्या में ग्रामीण इसमें फंस गए। फेस के दूसरे छोर पर जाकर कई लोगों ने जान बचाई। मलबे में आधा दर्जन से अधिक बाइक दबे होने की बात सामने आ रही है। किसी व्यक्ति के दबने की सूचना नहीं है। घटनास्थल पर बीसीसीएल और आउटसोर्सिग कंपनी का कोई भी अधिकारी और कर्मी मौजूद नहीं था। प्रशासनिक अधिकारी भी नहीं दिखे।

कोयला लेने गए पुरुष-महिलाओं के साथ आउटसोर्सिग कंपनी के दो भारी वाहनों के चालक, खलासी व मुंशी के भी फंसने की बात सामने आई है। रात्रि आठ बजे तक मिट्टंी व बड़े-बड़े पत्थरों (मलबा) का गिरना जारी था। नीचे फंसे लोग आवाज लगा रहे थे। फंसे हुए लोगों के परिजन शोर मचाकर उन्हें दूर रहने की सलाह दे रहे थे। ग्रामीण सीढ़ी और रस्सी का जुगाड़ कर खुद बचाव की कोशिश में लगे थे, लेकिन अंधेरा होने के कारण रेस्क्यू के काम में परेशानी हो रही थी। कई लोग देर रात तक रस्सी के सहारे धीरे-धीरे वहां से निकल रहे थे।

मलबा खुली खदान के कोयला फेस से निकलने वाले मुहाने पर गिरा। उत्पादन के बाद इस रास्ते से कोयला ढुलाई होती है। कर्मी भी आते-जाते हैं। फेस तीन ओर से घिरा है। ऊपर से पत्थर, चट्टंान, मिट्टंी आदि गिरने से निकलने का रास्ता भी बंद हो गया और वे लोग फंस गए। हाईवाल की ऊंचाई डेढ़ से दो सौ मीटर तक है। लगातार मलबा गिरने से लोग नहीं निकल पा रहे थे। घटनास्थल से करीब दो सौ मीटर की दूरी पर खनन कार्य चल रहा था।

----------------

बड़ी घटना नहीं हुई है। हाईवाल से मलबा गिरा है। इससे कोयला फेस में जाने का रास्ता बंद हो गया है। कोई हताहत नहीं हुआ। लोग फंस गए थे, मगर निकल रहे हैं।

सुनेधा नंदन, प्रबंधक, शताब्दी फुलारीटांड़ परियोजना

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस