जागरण संवाददाता, धनबाद। श्रम व रोजगार मंत्रालय के निर्देश पर धनबाद उपमुख्य श्रम आयुक्त कार्यालय ई श्रम पोर्टल पर नामांकन करने की तैयारी को लेकर प्रक्रिया शुरू कर दी है। जागरूकता अभियान की शुरूआत की जाएगी। कुसुंडा व बस्ताकोला में शिविर लगाने का निर्णय लिया गया है। ई श्रम कार्ड पूरे भारत में लागू करना है। इस लिहाज से अधिकारियों ने रूप रेखा तैयार कर ली है। धनबाद में आठ लाख व पूरे झारखंड में एक करोड़ श्रम को इससे जोड़ने की तैयारी है। हर जिला को लक्ष्य तय कर दिया गया है। उसी के अनुसार इस पर काम करने की जिम्मेवारी दी गई है। सभी श्रमिकों को पंजीकृत किया जाएगा।

12 अंकों का ई कार्ड पूरे देश में होगा मान्य

श्रमिकों को 12 अंकों का ई कार्ड प्रदान किया जाएगा। यह पूरे देश में मान्य होगा। इससे श्रमिकों को कई तरह की सुविधा मिलेगी। सामाजिक सुरक्षा के साथ कई तरह की सुविधा मिलेगी। वैसे श्रमिक को जोड़ा जाएगा जिनका किसी तरह का पीएफ व अन्य सुविधा सरकार से नहीं मिलती है। प्रवासी मजदूरों को भी इसमें जोड़ने की योजना है। केंद्रीय श्रम विभाग की टीम लगातार क्षेत्र का दौरा कर हर स्तर पर आकंड़ा जुटाने में लगी है। ठेका श्रमिकों की भी सूची कंपनियों से तलब की गई है, ताकि उस सूची से उन ठेका श्रमिकों का मिलान किया जा सके जिनका पीएफ व अन्य सुविधा तो नहीं मिल रहा है।

यह मिलेगी सुविधा

  • अगर किसी भी श्रमिक की आकस्किम मृत्यु हो जाती है तो उसे दो लाख की सहायता तुरंत उसके स्वजन को मिलेगी।
  • काम के दौरान कई श्रमिक आंशिक दिव्यांग हो जाता है तो उस स्थिति में 1 लाख रूपया की सहायता उसे मिलेगी। इसके अलावा कई सुविधा और देने को लेकर सरकार विचार कर रही है।

Edited By: Mritunjay