जागरण संवाददाता, धनबाद: स्कूली शिक्षा व साक्षरता विभाग की ओर से बुधवार व गुरुवार को रांची में दो दिवसीय राज्यस्तरीय समीक्षा बैठक बुलाई गई थी। जिला शिक्षा पदाधिकारी और जिला शिक्षा अधीक्षक इस बैठक में शामिल हुए थे। बैठक में जिलों से रिपोर्ट मांगी गई कि वैसे कितने विद्यालय हैं, जहां 25 से 50 के बीच छात्र नामांकित हैं। उन स्कूलों की भी सूची मांगी गई है, जहां पीटीआर के अनुसार शिक्षकों की संख्या अधिक हैं।

यू डायस प्लस के अनुसार पिछले तीन वर्षों में छात्रों की संख्या में आई कमी, शिक्षक उपस्थिति, समेत अन्य योजनाओं की समीक्षा की गई। मैट्रिक व इंटर में पांच खराब स्कूलों की भी सूची उपलब्ध कराने को कहा गया है। पहले दिन 27 बिंदुओं पर समीक्षा की गई।

बिंदुवार प्रत्येक बिंदुओं पर विस्तार से जानकारी ली गई। जिला शिक्षा पदाधिकारी इंद्र भूषण सिंह ने बताया कि दूसरे दिन की समीक्षा बैठक में अल्पसंख्यक विद्यालयों में शिक्षकों की स्थिति, विज्ञापन की स्थिति, सेवा संपुष्टि, सत्यापन की स्थिति, वेतन भुगतान समेत अन्य बिंदुओं पर समीक्षा की गई गई।

केवल यही नहीं मध्यान भोजन के तहत छात्र छात्राओं को 134 तीनों का प्रतिपूर्ति भत्ता, शिक्षकों का स्थानांतरण, पढ़ना लिखना अभियान के तहत वर्तमान समय में स्कूलों मैं योजनाओं की स्थिति, उर्दू विद्यालयों में नाम परिवर्तन और उन विद्यालयों में अवकाश की स्थिति के बारे में विस्तार से समीक्षा की गई। जिला शिक्षा पदाधिकारी ने बताया कि समीक्षा के दौरान योजनाओं का पालन हर हाल में सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया है।

Edited By: Atul Singh