धनबाद, जेएनएन। लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण की वजह से पिछले साल रेलवे का नया टाइम टेबल लागू नहीं हो सका था। भारतीय रेल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ था कि जब नया टाइम टेबल लागू नहीं हुआ। 22 मार्च 2020 से बंद हुई ज्यादातर ट्रेनें जुलाई में भी बंद रहीं और टाइम टेबल लागू करने संबंधी निर्णय नहीं लिया जा सका। हालांकि नया टाइम टेबल लागू किए बगैर ही रेलवे में कई ट्रेनों को बंद कर दिया। देश भर की ज्यादातर ट्रेनों के टाइम टेबल बदल दिए गए। जीरो आधारित टाइम टेबल के नाम पर ट्रेनों की रफ्तार भी बढ़ा दी गई। अब एक अप्रैल से नया वित्तीय वर्ष शुरू हो चुका है।

रेलवे ने नया टाइम टेबल लागू करने की तैयारी शुरू कर दी है। पुराने नियम के अनुसार एक जुलाई से रेलवे का नया टाइम टेबल लागू होगा। इसे लेकर 16 अप्रैल को इंटर जोनल टाइम टेबल कॉन्फ्रेंस बुलाया गया है। रेलवे बोर्ड के साथ होने वाले इस कॉन्फ्रेंस में देशभर के सभी रेल जोन के अधिकारी मौजूद रहेंगे। संक्रमण की वजह से इंटर जोनल टाइम टेबल कॉन्फ्रेंस ऑनलाइन ही होगा। टाइम टेबल कांफ्रेंस के दौरान जोनल रेलवे की ओर से तैयार किए गए प्रस्तावों से रेलवे बोर्ड को अवगत कराया जाएगा। बोर्ड स्तर पर उन प्रस्तावों की समीक्षा के बाद उन्हें नए टाइम टेबल में जगह मिलेगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप