धनबाद [तापस बनर्जी]। राजधानी, दुरंतो और शताब्दी एक्सप्रेस में सफर करने वाले मुसाफिरों के लिए रेलवे ने एक बार फिर राहत की बौछार कर दी है। इन वीआइपी ट्रेनों के यात्रियों को अब मार्च 2021 तक फ्लेक्सी फेयर के नाम पर जेब हल्की नहीं करनी होगी। रेलवे ने पहले जहां 15 मार्च 2020 तक फ्लेक्सी फेयर वापस ले लिया था। अब इसे 14 मार्च 2021 तक बढ़ा दिया गया है। हालांकि रेलवे की इस यात्री फ्रेंडली योजना का लाभ धनबाद और आसपास के यात्रियों को नहीं मिलेगा।

दरअसल, रेलवे ने फ्लेक्सी फेयर सिर्फ उन ट्रेनों से हटाया है, जिनमें यात्रियों की बुकिंग कम रहती है। इसके लिए अलग-अलग स्लैब भी तय कर दिए गए हैं। 80 फीसद से ज्यादा बुकिंग वाली ट्रेनों में इसे लागू नहीं किया गया है। धनबाद से गुजरने वाली हावड़ा-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस, सियालदह-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस और सियालदह-नई दिल्ली दुरंतो एक्सप्रेस यात्रियों की पसंदीदा टे्रन हैं, जिनमें सालोंभर 80 फीसद से ज्यादा बुकिंग होती है। यही वजह है कि इन टे्रनों में महंगे किराए के साथ ही सफर करना होगा।  

रांची-हावड़ा शताब्दी और रांची राजधानी एक्सप्रेस में सिर्फ तीन महीने का ऑफरः देशभर की जिन 32 शताब्दी एक्सप्रेस टे्रनों में तीन महीने के लिए फ्लेक्सी फेयर में छूट दी गई है, उनमें रांची-हावड़ा शताब्दी एक्सप्रेस भी शामिल है। धनबाद होकर चलने वाली शताब्दी एक्सप्रेस में फरवरी, मार्च और अगस्त महीने में ही छूट मिलेगी। अन्य नौ महीने फ्लेक्सी फेयर प्रभावी रहेगा। यही व्यवस्था रांची-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस में भी लागू होगी।

  • कितने फीसद बुकिंग पर कितनी छूट
  1. 70 फीसद तक बुकिंग होनेवाली टे्रनों में अंतिम बुक हुए टिकट का 20 फीसद छूट
  2. 70 से 80 फीसद तक बुकिंग होनेवाली टे्रनों में अंतिम बुक हुए टिकट का 10 फीसद छूट
  3. 80 फीसद से ज्यादा बुकिंग होनेवाली टे्रनों में नहीं मिलेगी छूट

चार्ट बनने के बाद खाली सीटों पर 10 फीसद डिस्काउंटः धनबाद से गुजरने वाली राजधानी, दुरंतो और शताब्दी में फ्लेक्सी फेयर से भले ही राहत न मिले, पर चार्ट बनने के बाद खाली सीटों की बुकिंग कराने पर 10 फीसद डिस्काउंट जरूर मिलेगा। हालांकि छूट सिर्फ मूल किराए पर ही मिलेगी। अन्य सभी शुल्क पूरा चुकाना होगा। 

Posted By: Sagar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस