धनसार, जेएनएन। बीसीसीएल की विश्वकर्मा परियोजना पर धनबाद के जनप्रतिनिधियों के बीच जारी वर्चस्व की लड़ाई अब खुलकर सामने आ गई है। 28 जनवरी को परियोजना में गोलीबारी और हिंसक झड़प के बाद एमसीसी नेता पूर्व विधायक अरुप चटर्जी ने मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने धनबाद के सांसद पीएन सिंह व विधायक राज सिन्हा विश्वकर्मा परियोजना में रंगदारी का ट्रेड (व्यापार) चलाने का आरोप जड़ा है। कहा है- गुड्डू सिंह को दोनों अपनी ढाल बनाकर इस्तेमाल कर रहे हैं। सांसद के भतीजे गुड्डू सिंह सिर्फ मोहरा हैं। उनके पीछे से बीजेपी सांसद पीएन सिंह और विधायक राज सिन्हा रंगदारी का व्यापार चलाना चाहते हैं। यह सफल नहीं होने दिया जाएगा। 

विश्वकर्मा को चालू कराने में एके राय का योगदान

एमसीसी नेता बीसीकेयू के महामंत्री चटर्जी ने शनिवार को विश्वकर्मा परियोजना के पास असंगठित मजदूरों की सभा को संबोधित करते हुए कहा कि गुड्डू को सिर्फ मोहरा बनाकर सांसद गलत राजनीति कर रहे हैं। विश्वकर्मा परियोजना को वर्षों पूर्व चालू कराने में सांसद एके राय का योगदान है। बीसीसीएल को अपने पुरखों की जमीन देनेवाले आदिवासियों को इसके बाद रोजगार मिला। सांसद का मुखौटा पहनकर विश्वकर्मा परियोजना लोडिंग प्वाइंट पर पहुंचे हथियारबंद गुंडा तत्वों को ट्रक लोडर मजदूरों ने भागने पर मजबूर कर दिया। अरूप ने असंगठित मजदूरों की एकता का तारीफ करते हुए कहा कि धनबाद के सांसद व विधायक धनसार कोलियरी को बंद कराना चाहते हैं। 16 सालों से विश्वकर्मा परियोजना में ट्रक लोडिंग का काम कर रहे आदिवासी मजदूरों से लड़ाने का काम किया जा रहा है, ताकि उनकी  रंगदारी का व्यापार चल सके। 

परियोजना में गोलीबारी के लिए प्रशासन जिम्मेदार

अरूप ने परियोजना में सिंह घटना का जिम्मेदार जिला प्रशासन को ठहराया। रंगदारी करनेवालों पर कोई कार्रवाई प्रशासन की ओर से नहीं की जा रही है। प्वाइंट मे पथराव व मारपीट में घायल असंगठित मजदूर फेकू चौहान के इलाज के लिए आर्थिक मदद दी। परियोजना में हिंसक घटना व पूरे मामले को राज्य के मुख्यमंत्री व वरीय प्रशासनिक पदाधिकारियों से अवगत कराया जाएगा। जरूरत पड़ी तो उपायुक्त कार्यालय पर विशाल प्रदर्शन किया जाएगा।  कहा कि जिला प्रशासन व प्रबंधन मजिस्ट्रेट नियुक्त कर यहां शीघ्र ट्रक लोडिंग का काम शुरू कराए। मासस नेता बिंदा पासवान, सुभाष चटर्जी, राणा चटराज, सुभाष सिंह  ने भी विचार रखे।  मौके पर धर्म बाउरी, सुभाष मुर्मू , अरशद अली, भगवान पासवान, आजादी चौहान, विजय चौधरी, अकबर अली, महेंद्र भुइयां, सूरज मुर्मू, सुमन हांसदा, दुखनी देवी, राधा देवी आदि थे।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप