धनबाद : बिनोद बिहारी महतो कोयलांचल विश्वविद्यालय का परीक्षा विभाग एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है। पिछले दिनों जहां बीएड की प्रायोगिक परीक्षा में 17 एक्सटर्नल के नहीं पहुंचने को लेकर विभाग की लापरवाही सामने आई थी, वहीं इस बार स्नातक के मार्कशीट में गड़बड़ी से जुड़ा मामला सामने आया है। स्नातक के फाइनल सेमेस्टर में डीएसई पेपर के अंक में गड़बड़ी वाले मार्कशीट ही परीक्षा विभाग ने कालेजों को भेज दिया। पीजी एडमिशन की वजह से कालेजों में मार्कशीट का वितरण भी होने लगा। अब एकाएक गड़बड़ी की शिकायत मिलने पर विवि ने सभी कालेजों को मार्कशीट वितरण रोकने को कहा है। साथ ही भेजे गए मार्कशीट परीक्षा विभाग को वापस सौंपने संबंधी पत्र भी दिया है। ऐसे खुली पोल :

स्नातक सेमेस्टर-6 का मार्कशीट जारी करने के बाद परीक्षा विभाग को भी इसकी जानकारी नहीं थी कि डीएसई के अंक में गड़बड़ी है। छात्रों को मार्कशीट मिलने के बाद जब कुछ छात्रों को इसमें गड़बड़ी दिखी तो उन्होंने पहले अपने कालेज और फिर विवि के परीक्षा विभाग से शिकायत की। छात्रों ने बताया कि डीएसई के पेपर में अंक गलत है। बाद में ऐसी कई शिकायतें मिलने लगीं। बार-बार मिल रही शिकायतों के मद्देनजर परीक्षा विभाग ने सभी कालेजों को मार्कशीट वितरण पर रोक लगाने के लिए पत्र जारी कर दिया। कालेजों से कहा गया कि भेजे गए मार्कशीट विवि को वापस लौटा दें। संशोधित मार्कशीट भेजी जाएगी। आजसू का विरोध, कहा बाहर दाखिला लेनेवाले छात्र को स्थगित करनी पड़ी यात्रा :

विवि के परीक्षा विभाग की इस लापरवाही का आजसू छात्र संघ ने विरोध शुरू कर दिया है। विवि अध्यक्ष विशाल महतो ने कहा कि परीक्षा विभाग ने मामले को छिपाने का प्रयास किया जो गलत है। इस गलती का खामियाजा छात्रों को भुगतना पड़ रहा है। ऐसे कई छात्र हैं जिन्हें दूसरे शहरों में दाखिला लेना था। पर जब उन्हें मार्कशीट में गड़बड़ी का पता चला तो यात्रा स्थगित करनी पड़ी। कतरास कालेज के छात्र को बिहार में लॉ में एडमिशन लेने के लिए जाना था। 26 नवंबर का टिकट भी बुक करा लिया था, पर मार्कशीट के कारण वह नहीं जा सका।

Edited By: Jagran