निरसा, जेएनएन। टुंडी के केंदुआटांड़ गांव में उत्पात मचाने के बाद अब हाथियों का झुंड निरसा पहुंच गया है। रविवार रात निरसा प्रखंड  के मांगुरडीह लाधाटा गांव में जंगली हाथियों का झुंड पहुंचा। जंगली हाथियों  के प्रवेश करने से ग्रामीणों में दहशत है। हाथियों का झुंड फसलों को राैंदते और मकानों को क्षतिग्स्त करते हुए चल रहे हैं।

ग्रामीणों की सूचना पर सोमवार सुबह वन विभाग के अधिकारी पहुंचे जो  हाथियों को गांव से सुरक्षित निकालने का प्रयास कर रहे हैं । रतनपुर के रास्ते रविवार रात हाथियों के दल  ने निरसा प्रखंड में किया प्रवेश। वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि उनमें कई हाथी हैं। हाथियों के 7 बच्चे भी हैं। रविवार सुबह झुंड झिलुआ पहाड़ पर था। रात में झुंड निरसा प्रखंड के पालुडीह गाँव प्रवेश किया। लाघाटा गांव के घाघकीटांड  के खेत में हाथियों का झुंड पेड़ों के नीचे मौजूद है। हाथियों का झुंड धधकीटांड टोले के खेत में पेड़ों के नीचे रुका हुआ है।

हाथियों के पहुंचने की सूचना पाकर झामुमो नेता अशोक मंडल पहुंचे तथा उन्होंने आरएफओ रामबालक प्रसाद को फोन पर जानकारी दी। हाथियों के झुंड को ग्रामीण इलाके से बाहर निकालने की मांग की। उन्होंने कहा कि जहां हाथी हैं, अगल-बगल में घनी आबादी है। ग्रामीण डरे हुए हैं। रेंजर रामबालक प्रसाद ग्रामीणों को समझा रहे हैं कि वे लोग हाथियों के झुंड के पास ना जाएं। हाथियों का झुंड थका हुआ है। वह दिन भर आराम करेगा। रात्रि में वह जिधर चाहेगा वन विभाग के कर्मी उसे उस रास्ते से निकालने का प्रयास करेंगे। जब तक हाथियों का झुंड है वन विभाग के कर्मी यहां पर कैंप के रहेंगे।

Posted By: Mritunjay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस