संवाद सहयोगी बासुकीनाथ (दुमका)। झारखंड सरकार के द्वारा मंगलवार को राज्य के धार्मिक स्थलों को खोले जाने की सूचना जारी किए जाने पर बासुकीनाथ के पंडा-पुरोहित व व्यवसायी वर्ग के लोगों ने प्रसन्नता जाहिर की है। करीब पांच महीने के लंबे अंतराल के बाद बासुकीनाथ मंदिर खोले जाने की घोषणा से बासुकीनाथ में उत्साह का माहौल है। लोगों ने मंदिर खोलने के निर्णय पर सरकार के प्रति आभार जताया है। दूसरी तरफ मंदिर प्रबंधन सिमिति और जिला प्रशासन ने मंदिर को खोलने की तैयारी शुरू कर दी है। झारखंड सरकार की विस्तृत गाइडलाइन की प्रतिक्षा की जा रही है। 

किसने क्या कहा

राज्य सरकार के इस निर्णय का स्वागत करते हैं। सरकार के द्वारा दिए गए गाइडलाइन का पूर्ण अनुपालन किया जाएगा। राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन एवं कृषि मंत्री बादल पत्रलेख को इस सकारात्मक पहल के लिए साधुवाद।

-मनोज पंडा, अध्यक्ष बासुकीनाथधाम पंडा धर्मरक्षिणी सभा, बासुकीनाथ

बासुकीनाथ मेला क्षेत्र एवं आसपास के सैकड़ों गांव की पूरी अर्थव्यवस्था बासुकीनाथ मंदिर से जुड़ी हुई है। दुर्गा पूजा, दीपावली पूजा एवं छठ पर्व के पूर्व बासुकीनाथ मंदिर के कपाट आम श्रद्धालुओं के लिए खोलने के निर्णय से राहत मिलना तय है।

-संजय झा, महामंत्री बासुकीनाथधाम पंडा धर्मरक्षिणी सभा

बासुकीनाथ मेला क्षेत्र के दुकानदारों के लिए काफी खुशी का दिन है। लंबे समय के बाद बासुकीनाथ मंदिर के कपाट आम श्रद्धालुओं के लिए खोले जाने की घोषणा सरकार के द्वारा की गई है। निश्चित तौर पर बासुकीनाथ मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोले जाने पर मेला क्षेत्र की रौनक लौटेगी।

भवानी सिकदार, होटल संचालक

बासुकीनाथ श्रावणी मेला के बाद भादो मेला के समाप्ति होने के लगभग राज्य सरकार के द्वारा बासुकीनाथ मंदिर के कपाट खोले जाने की घोषणा हुई। निश्चित तौर पर इससे आर्थिक मंदी से जूझ रहे व्यवसाय को एक नई ऊर्जा मिलेगी। सरकार के द्वारा दिए गए गाइडलाइन का अक्षरश: अनुपालन किया जाएगा।

-जगदीश यादव, व्यवसायी बासुकीनाथ

क्या कहा कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने

मुख्यमंत्री का हृदय से आभार। उन्होंने लोगों की आस्था के साथ रोजी-रोटी का भी ख्याल रखा। निश्चित तौर पर राज्य के सभी धार्मिक स्थल खोले जाने से इससे जुड़े सभी वर्ग के लोगों को काफी राहत मिलेगी।

 

Edited By: Mritunjay