कुमारधुबी : पुरानी साड़ी व्यवसायियों व धोबियों के बीच शनिवार को हुई वार्ता विफल हो गई। मैथन मोड़ समीप आदर्श नगर में साड़ी व्यवसायियों व धोबियों के बीच करीब दो घंटे तक वार्ता चली, लेकिन हड़ताल समाप्त करने पर निर्णय नहीं हो सका। व्यसायियों ने धोबियों से बिना मांग व शर्त के हड़ताल खत्म करने का आग्रह किया। जिसे धोबियों ने खारिज कर दिया। रविवार को साड़ी व्यवसायियों ने बैठक बुलाई है। बैठक में धोबी समाज का नेतृत्व कर रहे शिव रजक, नरेश रजक, रामेश्वर रजक, विष्णु रजक ने कहा कि इस महंगाई में साड़ी धुलाई की दर बढ़नी चाहिए। एक रुपया नहीं तो कम से कम पचास पैसा जरूर देना होगा। नहीं तो हमलोग काम पर नहीं लौटेंगे। वहीं साड़ी व्यवसायी मो. शाहिद, राजेश मोदी, विजय केसरी ने कहा कि चार पांच माह पूर्व ही दर बढ़ाने की सूचना देनी चाहिए थी। अचानक हाथ में पर्ची थमा कर हड़ताल करना ठीक नहीं है। हमारा नुकसान कर अपने लाभ की बात करना गलत है। धोबी समाज को बिना शर्त काम पर वापस आना होगा, तभी कोई बात होगी। जून माह के बाद ही दर बढ़ाने पर विचार किया जाएगा। मालूम हो कि साड़ी धुलाई की दर बढ़ाने के लिए कुमारधुबी व चिरकुंडा के सैकड़ों धोबी पिछले दस दिनों से हड़ताल पर हैं। इससे पुरानी साड़ी को नया बनाने का व्यवसाय प्रभावित चल रहा है। भाजपा के एग्यारकुंड मंडल अध्यक्ष रंजीत मोदी ने धोबी समाज की मांग को जायज ठहराया है। उन्होंने कहा कि कारोबारियों को इसपर विचार करना चाहिए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस