जागरण संवाददाता, धनबाद: धनबाद रेलवे स्टेशन के कैटरिंग संचालक के कर्मचारी को जबरन उठाकर ले जाने उससे मारपीट करने और सफेद कागज पर हस्ताक्षर कराकर छोड़ने का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ है कि रेल पुलिस का एक और कारनामा सामने आ गया है। रेल पुलिस के कारनामे का वीडियो ट्विटर पर वायरल है। वीडियो शेयर करने वाले ने आरपीएफ के हेड क्वार्टर से लेकर रेल मंत्रालय तक को टैग किया है।इसके बाद रेल महकमे में खलबली मच गई है। आरपीएफ ने ट्वीट का जवाब भी तुरंत दिया है। लिखा है वीडियो में दिख रहा वर्दी वाला सिपाही जीआरपी धनबाद का है और उसके विरुद्ध कार्रवाई के लिए वीडियो और सूचना राजकीय रेल पुलिस प्रभारी को दिया गया है।

क्या है वीडियो में

ट्विटर पर शेयर किया गया वीडियो 17 सेकंड का है। वीडियो में पुलिसकर्मी दिख रहे हैं। वीडियो शेयर करने वाले ने लिखा है कि आरपीएफ के जवानों ने रेलवे प्लेटफार्म से कोयले को जब्त करने के बदले में उन्हें रेलवे ट्रैक पर फेंक दिया और वापस आकर 2 महिलाओं से 500-500 रुपये की रिश्वत ली। शिकायत करने वाले ने रिश्वतखोरी में आरपीएफ के शामिल होने की बात लिखी थी, जिस पर आरपीएफ ने सफाई दी और बताया कि जिन पुलिसकर्मियों का वीडियो शेयर किया गया है, वो धनबाद जीआरपी के हैं।

मारपीट करने का मामला अब जिला पुलिस के जिम्मे

धनबाद स्टेशन पर 29 जुलाई को रेलवे के कैटरिंग स्टॉल कर्मचारी रवि को जबरन उठाकर ले जाने, मारपीट करने और सफेद कागज पर हस्ताक्षर करा कर छोड़ दिए जाने के मामले में अब जिला पुलिस जांच कर रही है। घटना को लेकर स्टाल संचालक प्रदीप कुमार ने रेल एडीजी और धनबाद के रेल थाना प्रभारी से लिखित शिकायत की है। हालांकि इसके बाद भी जिनके खिलाफ शिकायत हुई उन पर कार्रवाई के बजाय रेल पुलिस विभाग ने उन पर मेहरबानी दिखाई।

Edited By: Atul Singh