धनबाद, जेएनएन। दीनदयाल अंत्योदय राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत बेरोजगार युवाओं को रोजगार के लिए प्रशिक्षण देने के साथ ही अब नगर निगम लोन भी उपलब्ध कराएगा। आर्थिक रूप से कमजोर युवाओं को यह लाभ मिलेगा। स्वरोजगार के लिए राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत लाभुकों को दस लाख तक लोन का प्रावधान किया गया है। फिलहाल 40 से 50 हजार तक लोन मिलेगा।

नगर निगम ने सभी 55 वार्डों से दस-दस लोगों का चयन किया जा रहा है। यानी 550 युवाओं को स्वरोजगार के लिए लोन मिलेगा। अभी तक निगम को लगभग 250 आवेदन मिले हैं। नगर निगम के अनुसार, विधानसभा चुनाव खत्म होने के बाद लोन देने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। निगम को प्राप्त आवेदन अगली प्रक्रिया के लिए सीधे बैंकों को भेजे जाएंगे। लोन पर सात फीसद की दर से ब्याज लगेगा।

यहां सबसे अहम है कि चयनित लाभुक पहले से कोई न कोई कारोबार कर रहे हैं, लेकिन रुपयों की कमी की वजह से इसे आगे बढ़ा पाने में अक्षम हैं। ऐसे लोगों में सड़क किनारे ठेला, खोमचा, रिक्शा चलाकर अपने परिवार का पेट पालने वाले शामिल हैं। निगम इनकी मदद करेगा।

चार प्रतिशत ब्याज पर दस लाख तक ग्रुप लोन

जिनका पहले से रोजगार है उन्हें तो निगम लोन दे ही रहा है, लेकिन नए स्वरोजगार के लिए भी लोन का प्रावधान है। इसमें एकल लाभुक को दो लाख व ग्रुप में दस लाख तक लोन का प्रावधान है। ग्रुप में दस सदस्यों का होना अनिवार्य है। एनयूएलएम से ट्रेनिंग प्राप्त लाभुकों को प्राथमिकता दी जाती है। इसके तहत दो लाख रुपये तक लोन पर सात प्रतिशत ब्याज, स्वयं सहायता समूह व ग्रुप लोन 4 प्रतिशत ब्याज पर 10 लाख रुपये तक प्रावधान किया गया है। इच्छुक युवाओं को आवश्यक दस्तावेज के रूप में आधार कार्ड, राशन कार्ड, एक फोटो व शैक्षणिक योग्यता के दस्तावेज, बैंक खाते की पासबुक, अगर एपीएल हैं तो तीन लाख रुपए तक वार्षिक पारिवारिक आय का प्रमाण पत्र देना होगा।

आचार संहिता खत्म होने के बाद लोन देने की प्रक्रिया होगी शुरू

नगर आयुक्त चंद्रमोहन कश्यप ने कहा कि आचार संहिता खत्म होने के बाद लोन देने की प्रक्रिया शुरू होगी। कारोबार खड़ा करने के लिए बेरोजगार युवाओं को प्रशिक्षण भी मिलेगा। यह व्यवस्था निगम की ओर से की जाएगी।

Posted By: Sagar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस