धनबाद, जेएनएन। भारतीय मजदूर संघ से संबद्ध धनबाद कोलियरी कर्मचारी संघ का अधिवेशन करीब एक साल से लंबित है। फरवरी, 2020 में ही अधिवेशन होना था। लेकिन कोरोना वायरस के कारण स्थगित कर दिया। अधिवेशन के माैके पर ही इसके पदाधिकारियों का चुनाव होता है। चुनाव नहीं होने के कारण पुराने पदाधिकारी की पद पर काबिज हैं। पद पर बैठे पदाधिकारी कोरोना वायरस को ढाल बनाते हुए अधिवेशन और चुनाव को अभी टालना चाहते हैं। दूसरी तरफ संगठन के अंदर से ही अधिवेशन की मांग उठने लगी है। 

धनबाद में फरवरी महीने में अखिल भारतीय कोयला खदान मजदूर संघ का अधिवेशन होने जा रहा है। इसकी मेजबानी में धनबाद कोलियरी कर्मचारी संघ जुट गया है। लेकिन अब तक धनबाद कोलियरी कर्मचारी संघ के अधिवेशन को लेकर सब चुप हैं। इसे कुर्सी को बचाने की रणनीति के रूप में देखा जा रहा है। ऐसे में पद पर काबिज पदाधिकारियों के विरोध अंदर ही अंदर अधिवेशन करने की मांग उठाने लगे हैं। अखिल भारतीय कोयला खदान मजदूर संघ के तीन दिवसीय अधिवेशन को लेकर तैयारी शुरू हो गई है। इस अधिवेशन के बाद बीसीसीएल के तमाम शाखा और क्षेत्रीय कमेटी का गठन किया जाएगा। उसके बाद मुख्यालय स्तर की केंद्रीय कमेटी का अधिवेशन कर चुनाव होगा। कई ऐसे लोग हैं जो लगातार पदों पर काबिज हैं। ऐसे लोगों को अब बड़ी जिम्मेदारी देते हुए उस पद से मुक्त करने की तैयारी है। 

भारतीय मजदूर संघ के केंद्रीय महासचिव विनय कुमार सिन्हा हर स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। झारखंड प्रदेश कमेटी से लेकर धनबाद कोलियरी कर्मचारी संघ और भारतीय मजदूर संघ की गतिविधियों  की जानकारी ले रहे हैं। उन्हें गुप्त रूप से भी रिपोर्ट प्राप्त हो रही है। 

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप