जागरण संवाददाता, धनबाद। अब कचरा चुनने वाली मां के बच्चों का बचपन संवरेगा। उपलब्ध संसाधनों के अनुसार उन्हें सरकार की योजनाओं का लाभ मिलेगा। इस दिशा में झारखंड ग्रामीण विकास ट्रस्ट ने पहल की है। ट्रस्ट से जुड़े समाजसेवी शंकर रवानी ने गुरुवार को कतरास के वार्ड चार व पांच तथा धनबाद के कुल 30 छोटे बच्चों को सूचीबद्ध कराया है। उन्होंने बताया कि ज्यादातर बच्चों के पिता नहीं हैं। उनकी मां कचरा चुनकर या दाई का काम कर दो वक्त की रोटी का जुगाड़ करती है।

धनबाद के लिए अभी 40 बच्चों का फंड : दिव्यांग व एचआइवी पीड़ित परिवार के बच्चे को प्राथमिकता

बच्चों को मिलने वाली स्पांसरशिप और पोस्टल केयर योजना के लिए 40 बच्चों ही फंड उपलब्ध कराया गया है। इनमें दिव्यांग और एचआइवी पीड़ित परिवार के बच्चे को प्राथमिकता दी जाएगी। चिह्नित बच्चों के आवास व पता का सत्यापन किया जाएगा। सही पाये जाने पर अन्य कागजी प्रक्रियाओं के बाद उनका बैंक अकाउंट खुलेगा। उस अकाउंट में ही सरकार से मिलने वाली दो हजार की राशि भेजी जाएगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप