धनबाद, जेएनएन। आपने देश-दुनिया के कई हिस्सों में सांडों की लड़ाई व खेल की परंपरा देखी व सुनी होगी, लेकिन धनबाद जिले के एग्यारकुंड प्रखंड के गलफरबाड़ी के आदिवासी टोला में मुर्गा लड़ाने की खास परंपरा है। यहां मकर संक्रांति के पर्व पर मुर्गा लड़ाई खेल का आयोजन किया गया। इसमें झारखंड के कई जिलों, बंगाल व ओड़िशा से आये 572 मुर्गों को लड़ाया गया।

गलफरबाड़ी मांझी बस्ती में वर्ष 1956 से मुर्गा लड़ाई खेल का आयोजन होते आ रहा है। प्रत्येक साल मकर संक्रांति के दिन मुर्गा लड़ाई कराई जाती है। मुर्गा लड़ाने बंगाल व ओडिशा तक से लोग आते हैं। इसका एंट्री फीस 50 रुपए लगता है। एक मुर्गा द्वारा लगातार तीन मुर्गों को हराने पर प्राइज भी दिया जाता है। बुधवार दिन दो बजे आदिवासी टोला मैदान में मुर्गा लड़ाई का खेल आरंभ हुआ, जो शाम साढ़े छह बजे तक चला।

इसमें झारखंड, बंगाल व ओड़िशा से 572 मुर्गा लड़ाई के लिए पहुंचे थे। इसमें नौ मुर्गे विजयी रहे। मुगमा के शिवडंगाल, मुगमा मोड़, कुमारधुबी व धनबाद के एक मुर्गा, निरसा के दो मुर्गा और बंगाल के तीन मुर्गा ने लगातार तीन मुर्गों को हराया। मुर्गा लड़ाई देखने के लिए दूर-दूर से लोग पहुंचे थे। 

Posted By: Sagar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस