जागरण संवाददाता,धनबाद: देशभर के पावर प्लांटों में कोयले की कमी को देखते हुए कोल इंडिया ने सभी तरह के इ-ऑक्शन के माध्यम से कोयला आपूर्ति पर रोक लगा दी है। साथ ही इस संबंध में बीसीसीएल, इसीएल व सीसीएल समेत अनुषंगी कंपनियों को अधिसूचना जारी करते हुए अधिक से अधिक कोयला पावर प्लांट को आपूर्ति करने को कहा है। पावर प्लांटों में कोयला स्टॉक की स्थिति सामान्य होने तक यह व्यवस्था जारी रखने को कहा गया है। कोल इंडिया के जीएम सेल्स एंड मार्केटिंग के हस्ताक्षर से जारी अधिसूचना में कहा गया : मौजूदा समय में पावर प्लांटों में कोयले का कम स्टॉक की स्थिति को देखते हुए, घटते स्टॉक को फिर से भरने के लिए बिजली क्षेत्र को कोयले की आपूर्ति को प्राथमिकता दी जा रही है।उपरोक्त तथ्य को ध्यान में रखते हुए, कोयला कंपनियों को सलाह दी जाती है कि जब तक स्थिति स्थिर नहीं हो जाती, तब तक बिजली क्षेत्र के लिए विशेष फॉरवर्ड ई-ऑक्शन को छोड़कर कोयले की कोई और इ-ऑक्शन आयोजित करने से बचना चाहिए। यदि किसी कोयला कंपनी को बिजली क्षेत्र को प्रेषण को प्रभावित किए बिना इ-ऑक्शन मार्ग के माध्यम से धीमी गति से चलने वाले स्टॉक को समाप्त करना आवश्यक लगता है, तो ऐसी किसी भी नीलामी की योजना से पहले उचित औचित्य के साथ कोल इंडिया को सूचित करने को कहा गया।

हार्ड कोक व्यवसायियों में है नाराजगी: कोल इंडिया के इस फैसले से हार्डकोक व्यवसायियों में खासा नाराजगी है। जीटा के अध्यक्ष अमितेश सहाय ने कहा कि पहले से ही उन्हें बीसीसीएल के द्वारा कोयला नहीं मिल रहा था

जो थोड़ा बहुत कोयला वह ई ऑक्शन से उठा रहे थे बीसीसीएल ने उसे भी बंद कर दिया। ऐसे मैं तो इंडस्ट्रीज में एक बार फिर पूरे तरीके से ताला लग जाएगा।

Edited By: Atul Singh