संवाद सहयोगी, निचितपुर: गैंगस्टर अमन सिंह का अपने को भाई बताकर छोटू सिंह ने ईस्ट बसुरिया ओपी क्षेत्र के मोहलीडीह निवासी कांग्रेस कमेटी (अल्पसंख्यक विभाग) के प्रदेश सचिव सह निवर्तमान पंचायत समिति सदस्य मो. इसराफिल उर्फ लाला को एक बार फिर धमकी दी है। मंगलवार को दिन के करीब ग्यारह बजे इसराफिल के वाट्सएप पर मैसेज भेज कर धमकी दी गई है। उस समय वे घर पर नहीं थे। निजी काम से तेतुलमारी में थे। मैसेज में कहा गया कि क्या लाला कितने दिन तक गनर रहेगा तुम्हारे पास। जब हटेगा तब तुम हमें पाओगे अपने पास। याद रहे जिस दिन गनर हटा,उसके बाद तुम्हारा आखिरी दिन शुरू हो जाएगा। ये मत सोचो कि हम भुला गए हैं। उस दिन आए थे तुमसे मिलने, लेकिन तुम तो नहीं मिले, तिवारी मिल गया। देख लो उसका हाल। खुद को अमन सिंह का भाई बताने वाले छोटू सिंह के नाम से धमकी मिलने के बाद इसराफिल और उसके घरवाले काफी भयभीत हैं। सूचना मिलने पर इंस्पेक्टर भिखारी राम इसराफिल के घर पहुंचे और मामले की जानकारी ली।

इसराफिल ने बताया कि आज मिली धमकी की सूचना एसएसपी, बाघमारा एसडीपीओ, कतरास के इंस्पेक्टर व स्थानीय पुलिस को दी गई है। पहले भी कई बार उसे गैंग्स की ओर से धमकी मिल चुकी है। उस समय धमकी मिलने के बाद पुलिस प्रशासन से सुरक्षा की गुहार लगाई थी। तब मुझे गनवाला एक बाडीगार्ड मुहैया कराया गया था, लेकिन करीब एक माह बाद 30 अगस्त को उक्त बाडीगार्ड मुझसे वापस ले लिया गया। उन्होंने पुलिस प्रशासन से सुरक्षा की गुहार लगाई है। -------------------------

कब-कब मिली अमन गैंग से धमकी

एक जुलाई : अमन सिंह गैंग के नाम पर छोटू सिंह ने इसराफिल से फोन पर फार‌र्च्यूनर गाड़ी की कीमत व दस लाख रंगदारी की मांग की थी। इस मामले को लेकर इसरफिल ने ईस्ट बसुरिया ओपी में प्राथमिकी दर्ज कराई। तीन जुलाई : प्राथमिकी दर्ज कराने के बाद तीन जुलाई को दूसरी बार इसराफिल को वाट्सएप मैसेज भेजकर धमकी दी गई। कहा था कि अब तुम्हारी बेटी की शादी में मुलाकात होगी। अच्छा किए हो, बास को नजरअंदाज करके। शादी में दामाद के लिए दो गज जमीन भी खोज लेना। जिसने तुम्हें दिमाग दिया है, उससे कह देना कि तुम्हें बचाए।

छह जुलाई: इसराफिल कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए। रंगदारों से लड़ने के ऐलान किया, तो तीसरी बार वाट्स एप मैसेज भेज कर धमकी दी।

----------

14 सितंबर को चौथी बार इसराफिल को धमकी मिली है।

------------------

मामले की सिर्फ सूचना मिली है। लिखित शिकायत नहीं मिली है।

गंगा पासवान,

प्रभारी ओपी प्रभारी, ईस्ट बसुरिया

Edited By: Jagran