जागरण संवाददाता, धनबाद। प्रधान निदेशक (अन्वेषण विंग) आयकर विभाग से मिले निर्देश के बाद अन्वेषण विंग की टीम की छापेमारी बुधवार को देर रात तक जारी रही। लगभग 48 घंटे से तीन राज्यों के आयकर अधिकारी झारखंड, बिहार, कोलकाता और एनसीआर के गुरुग्राम (गुड़गांव) में कागजात की जांच-पड़ताल करते रहे। आयकर विभाग के अधिकारियों के अनुसार चारों व्यवसायियों ने 20 करोड़ रुपये की ब्लैक मनी स्वीकार की है।

अब विभाग इन राशि पर टैक्स वसूलने की कार्रवाई शुरू करेगा। विभागीय कार्रवाई शराब, रीयल इस्टेट, बालू ठेका और आभूषण कारोबार से जुड़े धनबाद के चार व्यवसायियों के लगभग 18 ठिकानों पर छापेमारी जारी है। व्यवसायी जगनारायण सिंह उर्फ जगन सिंह, पुंज सिंह, अरुण झुनझुनवाला और सुरेंद्र जिंदल के धनबाद में दस आवास और प्रतिष्ठानों पर छापेमारी की गई है। इसके अलावा बिहार के औरंगाबाद, आरा व डेहरी, कोलकाता और गुरुग्राम के दो-दो ठिकानों पर भी टीम जांच पड़ताल करती रही। आयकर जांच में यह बात सामने आई है कि कारोबारियों ने शेयर के जरिए करोड़ों की राशि दूसरी कंपनियों में निवेश कर रखा है।

बुधवार को भी रीयल इस्टेट और शराब के व्यवसाय में निवेश से संबंधित दस्तावेज, बैंक खातों की भी जानकारी हाथ लगी। हालांकि आयकर विभाग ने कुछ भी बताने से इन्कार कर दिया। चारों व्यवसायी आदित्य मल्टीकॉम प्राइवेट लिमिटेड, स्टारनेट मार्केटिंग, ब्रॉडसन कमोडिटी और दो अन्य कंपनियों में पार्टनर हैं। टीम का नेतृत्व संयुक्त निदेशक अन्वेषण विंग आयकर विभाग रांची प्रणव कुमार कोले कर रहे थे। छापेमारी में धनबाद, रांची, जमशेदपुर, पटना, हजारीबाग और कोलकाता के आयकर अधिकारी शामिल हैं।
यह भी पढ़ेंः रंजय के श्राद्ध में संजीव ने रची थी नीरज मर्डर की साजिश

झारखंड की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस