जासं, धनबाद : नगर निगम क्षेत्र में अवैध तरीके से बोरिंग होने का मामला प्रकाश में आया है। वार्ड नंबर 49 के पाथरडीह कोल वाशरी स्थित राज्यकृत मध्य विद्यालय में विवादित बोरिंग ट्रक के छह माह बाद दोबारा पहुंचने से मामला तूल पकड़ने लगा है। मासस झरिया प्रखंड सचिव हरे मुरारी महतो ने बोरिंग वाहन को अवैध बताते हुए उसकी जांच की मांग नगर आयुक्त सत्येंद्र कुमार से की है। नगर विकास मंत्री, डीसी, निगरानी विभाग, पूर्व विधायक निरसा समेत अन्य संबंधित विभाग व पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों को भी शिकायत की प्रति दी है। फिलहाल, विरोध के बाद पुन: बोरिंग के काम को रोक दिया गया है।

क्या है शिकायत

मासस नेता के अनुसार बोरिंग ट्रक संख्या केए01एमएन-6188 और केए01एमएन-6166 गत 23 जून 2020 की संध्या पांच बजे बोरिंग करने आए। राज्यकृत मध्य विद्यालय में वे पुन: 20 जनवरी को पहुंचे। यह ट्रक अवैध रुप से बोरिंग कर रहे हैं। बोरिंग करने संबंधी आदेश कार्यपालक पदाधिकारी जलापूर्ति द्वारा गत 22 सितंबर को दिया गया, लेकिन पंजीकृत ट्रक नंबर आदेश में आवंटित नहीं है।

क्या है आरोप

शिकायत के मुताबिक अवैध रुप से की जा रही डीप बोरिंग का मुख्य उद्देश्य मेसर्स एसीवीआई लि. वाशरी कंस्ट्रकशन को पानी देना है। जबकि एसीवीआई को 17.5 हेक्टेयर जमीन उपलब्ध है। डीप बोरिंग वहीं लगाना है। लेकिन स्कूल परिसर में अवैध रुप से बोरिंग की जा रही है। जिला शिक्षा अधीक्षक को स्कूल में बोरिंग होने की सूचना गत जून में ही की गई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। उक्त बोरिंग ट्रक नगर निगम में पंजीकृत नहीं है तो जुर्माना वसूला जाए। पूर्व पार्षद ने भी उक्त मसले को समझते हुए कोई कार्रवाई नहीं की।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021