जागरण संवाददाता, धनबाद: शहीद निर्मल महतो मेमोरियल कॉलेज एवं अस्पताल के एनेस्थीसिया विभाग में शनिवार को एक सेमिनार का आयोजन किया गया। सेमिनार में बोकारो बीजीएच के एनेस्थेटिक्स निधि और डॉक्टर गौतम साहा मुख्य अतिथि उपस्थित हुए। चिकित्सकों को जानकारी देते हैं डॉ निधि चौबे ने बताया कि रीजनल ब्लॉक में के यूएसजी के समय सावधानी की जरूरत होती है। अब यह पद्धति भी एडवांस हो रही है। उनका टॉपिक यूएसजी इन रीजनल ब्लॉक था। डॉ गौतम ने लोवर एक्सट्रीमली नर्व ब्लॉक पर अपना व्याख्यान दिया। उन्होंने बताया कि किस विधा में भी अब नई तकनीक आ गई है। इससे पहले कार्यक्रम का उद्घाटन विभागाध्यक्ष डॉ यू एन वर्मा, प्रोफेसर डॉ कामेश्वर विश्वास, सेंट्रल अस्पताल के विभागाध्यक्ष डॉ डीके सिंह, डॉ अरुण कुमार आदि चिकित्सक मौजूद थे। 

अस्पताल में मरीजों को होगी सहूलियत

डॉ दिनेश कुमार सिंह ने बताया कि इस प्रकार के सेमिनार से मरीजों को सहूलियत होती है। उन्होंने बताया कि निश्चितना विज्ञान में अब तेजी से नई पद्धति और तकनीक आ रही है। दूर देश विदेश के डॉक्टरों के साथ धनबाद और झारखंड के डॉक्टर भी साझा कर रहे हैं। इसका सीधा फायदा अस्पताल में मरीजों को मिलेगा। उन्होंने कहा कि आगे भी इस प्रकार के सेमिनार का आयोजन किया जाएगा। सेमिनार में बोकारो धनबाद गिरिडीह के चिकित्सक भी शामिल हुए। 

चिकित्सकों के बीच किया गया लाइव डेमोंसट्रेशन

सेमिनार के दौरान चिकित्सकों के बीच लाइव रजिस्ट्रेशन का भी आयोजन किया गया। इस दौरान मरीज का लाइव ऑपरेशन करके तकनीक को साझा किया। मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर डॉ कामेश्वर विश्वास ने बताया कि नए चिकित्सकों को इससे काफी सहूलियत होगी। उन्होंने बताया कि मेडिकल साइंस में निश्चितना के चिकित्सकों की बेहद अहम भूमिका होती है।

Edited By: Atul Singh