चिरकुंडा : चिरकुंडा नगर परिषद के विवाह भवन में बुधवार को हुई बोर्ड की बैठक में साफ-सफाई, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन, आश्रय गृह के संचालन आदि प्रस्तावों पर निर्णय लिया गया। प्रस्ताव पारित किया गया कि नगर परिषद क्षेत्र में फिर पायनियर कंपनी कचरा का उठाव करेगी। मार्च से नगर परिषद अपने स्तर से कचरा का उठाव करवा रही थी। अगर इस बार कंपनी कचरा का उठाव सही रूप नहीं कर पाती है तो बोर्ड निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र होगा। पायनियर कंपनी सुंदरनगर में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन प्लांट का निर्माण कर रही है। उसे दिसंबर तक काम पूरा करने का निर्देश दिया गया। सिटी मैनेजर मुकेश निरंजन व लुकेश कुमार को समन्वय स्थापित कर ठोस अपशिष्ट प्लांट का सीमांकन बोर्ड लगवाने का निर्देश दिया गया। आश्रय गृह का संचालन साउथ बिहार वेलफेयर सोसाइटी कर रही थी जिसका एग्रीमेंट मई में समाप्त हो चुका है। नगर परिषद अपने स्तर से संचालन करने के लिए नगर विकास विभाग को पत्र लिखेगी। विवाह भवन का संचालन नगर परिषद करेगी। इसके लिए एक समिति का गठन किया गया है। समिति में सिटी मैनेजर मुकेश निरंजन, पार्षद संजीव कुमार ¨सह, ¨रकी खान व राशिद आलम को रखा गया है। प्रधानमंत्री आवास योजना घटक तीन के तहत सुभाष नगर में जमीन चिन्हित किया गया। यहां आवास बनाकर लोगों को बसाया जाएगा। वार्डों में जितने भी तालाब हैं उसकी निविदा निकाली जाएगी। पार्षद तालाबों की सूची सिटी मैनेजर को उपलब्ध कराएंगे। प्रत्येक वार्ड में वार्ड विकास भवन बनाया जाएगा। वार्ड भवन निर्माण करने के लिए पार्षदों से जमीन चिन्हित कर सूची मांगी गई ताकि 15वें वित्त आयोग में स्वीकृति के लिए नगर विभाग को पत्र लिखा जा सके। नगर परिषद अवस्थित खराब स्ट्रीट लाइटों की मरम्मत कराई जाएगी। चिरकुंडा शहरी जलापूर्ति में आ रही समस्या को देखते पेयजल विभाग के कार्यपालक अभियंता से दो से तीन दिनों के अंदर बैठक करने का निर्णय लिया गया। बैठक में नगर परिषद अध्यक्ष डबलू बाउरी, उपाध्यक्ष जय प्रकाश सिह, ईओ एमएन मंसूरी, कनीय अभियंता उमेश महतो, उत्तम कुमार समेत अधिकांश पार्षद मौजूद थे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस