पंचेत, जेएनएन: बीसीसीएल सीवी एरिया के दहीबाड़ी में कार्यरत डंफर ऑपरेटर 45 वर्षीय काजल स्वर्णकार की कोरोना से निधन हो गया है। पिछले दिनों कार्य के दौरान तबीयत बिगड़ने के बाद प्रबंधन ने उसे केंद्रीय अस्पताल भेजा जहां जांच में कोविड पाया गया।  लेकिन  अस्पताल ने भर्ती नही लिया।उसके बाद उसके स्वजन बोकारो निजी अस्पताल ले गए जहां शुक्रवार उसकी मौत  हो गई । आक्रोशित संयुक्त मोर्चा ने अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही  बताते हुए रविवार  दहीबाड़ी में प्रदर्शन किया। यूनियन नेताओं का कहना है कि  कि अस्पताल प्रबंधन द्वारा कंपनी के कर्मी होने के बाद भी भर्ती नहीं लिया गया जबकि उसे प्राथमिकता दी जानी चाहिए । जब उसकी जांच हुई  तो उस वक्त उसका ऑक्सीजन लेवल 36 था। फिर भी अस्पताल प्रबंधन ने संवेदना नहीं दिखायई । इसके कारण बोकारो ले जाने व अस्पताल के प्रबंध में देरी के कारण मौत हो गई । यूनियन ने कंपनी के कर्मियों के लिए कोटा रिजर्व करने, क्षेत्रीय अस्पताल में ऑक्सीजन व बेड की व्यवस्था करने, मृतक को कोविड के तहत लाभ मुहैया कराने सहित अन्य मांग रखी है। मांगों को नहीं माने जाने पर आंदोलन की चेतावनी दी है। जानकारी हो कि जमसं कुंती गुट के शफिर खान ने प्रबंधन से पहले ही ऑक्सीजन की उपलब्धता की मांग की है। इस दौरान दयामय उपाध्याय, एकराम अंसारी,नोगेन महतो,कलाम अंसारी, तारा पदो महतो, बाबू जान मरांडी,   संतोष सिंह,  धीरेंद्र सिंह,  मोहिउद्दीन,  कलामउद्दीन,  राजेंद्र महतो,  योगेश राजभर,  प्रताप पोलाई, सूरज कुमार ,ब्रह्मदेव गोप आदि अन्य शामिल थे।