आशीष अंबष्ठ, धनबाद : बीसीसीएल में घोटाले के खुलासा होने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। ताजा खुलासा कंपनी के बस्ताकोला एरिया की ईस्ट भगतडीह शिमलाबहाल कोलियरी के एकेजे शिमलाबहाल पैच में आउटसोर्सिग के जरिए कोयला खनन, परिवहन और ओबी हटाने के टेंडर से जुड़ा है। टेंडर प्रक्रिया में भारी गड़बड़ी मिलने के बाद कोयला मंत्रालय ने इसे रद करने का आदेश दिया दिया है। इस आदेश के आलोक में 14 सिंतबर को होने वाली बोर्ड की बैठक में टेंडर का रद किये जाने की पूरी संभावना है। यह ठेका धनबाद के एक चर्चित ठेकेदार को मिलना था। इसमें कोल अधिकारियों की भूमिका पर भी सवाल उठ रहे हैं।

सूत्रों के अनुसार सांसद व कोल स्टैंडिंग कमेटी सदस्य सुशील कुमार सिंह इस टेंडर में गड़बड़ी की शिकायत कोयला मंत्रालय करते हुए इसकी सीवीसी से जांच कराने की मांग की थी। करीब 2205.41 करोड़ रुपये की प्राक्कलित राशि वाले इस टेंडर को 2415.40 करोड़ रुपये में दिये जाने की तैयारी। यानी प्राक्कलित राशि से 9.52 फीसद अधिक की दर पर। कोयला मंत्रालय के निर्देश पर हुई जांच में टेंडर प्रक्रिया में भारी गड़बड़ी का खुलासा हुआ। सांसद ने कोयला मंत्री को भेजे पत्र में कहा है कि 270 लाख टन कोयले का खनन व परिवहन के साथ ओबी हटाने का काम होना है। इसके लिए हुई ई-नीलामी में आठ फर्मो ने अपने रेट डाले थे। इसके बाद जब रिवर्स ई-ऑक्शन हुआ तो केवल सिर्फ उस ठेकेदार के फर्म ने ही उसमें हिस्सा लिया। इसके बावजूद बीसीसीएल की टेंडर कमेटी ने ठेका शिड्यूल रेट से अधिक दर पर देने की अनुशंसा की है। बताते हैं कि पहले ऐसे काम उसी पैच में शिड्यूल रेट से कम दर में आवंटित हुए थे। बावजूद अधिक दर पर अनुशंसा महज इसलिए हुई कि चर्चित ठेकेदार को 30 प्रतिशत से भी अधिक लाभ पहुंचाया जा सके।

इंडिपेंडेंट एक्सटर्नल मॉनीटर ने जताई थी आपत्ति : इस मामले में इंडिपेंडेंट एक्सटर्नल मॉनीटर रिटायर्ड आइएएस प्रो. डॉ. एलसी सिंघी और रिटायर्ड आइएएस प्रो. प्रमोद दीपक सुधाकर ने निविदा रद कर फिर से टेंडर निकालने की अनुशंसा की थी

-----------------

बीडिंग में इन कंपनियों

ने डाले थे रेट

1. वीपीआर माइनिंग इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड

2. देवप्रभा कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड

3. त्रिभुवन कैरियर प्राइवेट लिमिटेड

4. एसजीपीएल टीसीपीएल बीपी जेवी

5.एसएल लिमिटेड

6. बीजीआर माइनिंग एंड इंफ्रा लिमिटेड

7. आर प्रोजेक्ट

8.अंबे माइनिंग प्राइवेट लिमिटेड

Posted By: Jagran