जागरण संवाददाता, धनबाद : बीएसके कालेज मैथन में इसी सत्र से पीजी के कामर्स और इतिहास विषयों की पढ़ाई शुरू होगी। केबी कालेज में भी पीजी की पढ़ाई शुरू करने की संभावना तलाशी जाएगी। इसके साथ ही बिनोद बिहारी महतो कोयलांचल विश्वविद्यालय के संस्कृत विभाग की ओर से इसी सत्र से वास्तु, ज्योतिष और कर्मकांड डिप्लोमा कोर्स की पढ़ाई भी शुरू की जाएगी। इसके साथ ही स्नातक सेमेस्टर-4 व 5 सत्र 2020-23 व पीजी सेमेस्टर-4 सत्र 2020-22 के छात्रों के सत्र को नियमित करने के लिए उनके सिलेबस में 25 फीसद की कटौती भी जाएगी। गुरुवार को विश्वविद्यालय में होनेवाली एकेडमिक काउंसिल की 12वीं बैठक में इन प्रस्तावों पर मंजूरी की मुहर लग सकती है। बैठक का नेतृत्व कुलपति डा. सुकदेव भोई करेंगे। कुल 21 प्रस्तावों पर विस्तृत चर्चा के बाद उन्हें काउंसिल से पास कराया जाएगा।

इन महत्वपूर्ण प्रस्तावों पर पर लगेगी मुहर 

नई शिक्षा नीति के तहत स्नातक के बोर्ड आफ स्टडीजस से पास सिलेबस को एकेडमिक काउंसिल की मंजूरी मिलेगी।

  • पीके राय कालेज में संचालित बीएससी इन कंप्यूटर अप्लीकेशन कोर्स को बदल कर उसे बैचेलर आफ कंप्यूटर अप्लीकेशन किए जाने को मंजूरी दी जाएगी।
  • बीबीएम कालेज बलियापुर में इसी सत्र से कुड़माली, खोरठा व संताली सर्टिफिकेट कोर्स को मंजूरी दी जाएगी। 
  • पीएचडी की सीटों में 25 फीसद की बढ़ोतरी को मंजूरी दी जाएगी।
  • डिप्लोमा इन अमानत कोर्स को इसी सत्र से शुरू करने की मंजूरी दी जाएगी।
  •  कालेजों में संचालित वोकेशनल, सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कोर्स की मानिटरिंग के लिए नोडल आफिसर की नियुक्ति व शुल्क निर्धारण 
  • स्थायी संबद्ध कालेजों के स्थायी शिक्षकों को पीएचडी अभ्यर्थियों के सुपरविजन का अधिकार देने पर निर्णय - बीएड और बीसीए जैसे सेल्फ फाइनेंस कोर्स के लिए रेगुलेशन 
  • बीएस सिटी कालेज में सत्र 2022-25 में बीसीए की सीटें 60 से बढ़ा कर 120 करने को मंजूरी दी जाएगी।

Edited By: Tapas Banerjee

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट