धनबाद : बलियापुर के खेतटांड़ गांव की किशोरी खुशबू कुमारी की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत में नया मोड़ आया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट व पिता के बयान इस तथ्य की ओर इशारा कर रहे हैं कि खुशबू ने खुदकशी नहीं की थी बल्कि गहरी साजिश के तहत जहर खिलाकर उसकी हत्या की गई थी। पिता विजय मंडल अभी तक की पुलिस जांच से असंतुष्ट हैं। उन्होंने मंगलवार को डीसी, एसएसपी और ग्रामीण एसपी को लिखे पत्र में हत्या किये जाने का दावा करते हुए निष्पक्ष जांच की मांग की है। बताया कि उनकी बेटी काफी समझदार थी। वह आत्महत्या नहीं कर सकती।

--

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में टुड्डी पर जख्म, जबरदस्ती का इशारा :

पोस्टमार्टम में जहर खाने की बात सामने आई है।विसरा सुरक्षित रखा गया है। हालांकि इस दौरान उसके गाल के पास टुड्डी पर मिले तीन जख्म पूरे मामले को संदिग्ध बना रहे हैं। ये जख्म कई कारणों से बन सकते हैं। जोर जबर्दस्ती का विरोध करने में जख्मी हुई हो या किसी ने जबरदस्ती जहर खिलाया हो। ठुड्डी को पकड़कर जबरन जहर खिलाने के दौरान जख्म हो सकते हैं। पुलिस जांच में ही जख्म के कारणों का पता लगेगा।

बिग बाजार गई थी, मगर वहां किसके साथ थी : पिता के अनुसार जांच के कई पहलुओं को पुलिस नजरअंदाज कर रही है। सोनाली भी पुलिस को सही जानकारी नहीं दे रही है। उनकी पुत्री को बिग बाजार ले जाया गया था। इसके बाद बलियापुर में घटना हुई। वह वहां किसके साथ गई थी, इसकी जांच होनी चाहिए। वहां के आसपास के सीसी कैमरों की जांच से खुलासा हो सकता है।

एक नेता के पुत्र की ओर इशारा :

खुशबू के परिजन घटना के पीछे सिंदरी क्षेत्र के एक प्रभावशाली नेता के पुत्र की भूमिका संदिग्ध मान रहे हैं। कहा जा रहा है कि उसी के दबाव में पुलिस मामले की जांच निष्पक्ष तरीके से नहीं कर रही है। घटना में मिले मोबाइल का भी कॉल डिटेल्स नहीं निकाला जा रहा है। 13 दिन बाद भी पुलिस खास निष्कर्ष नहीं निकाल पाई है।

----

इन कारणों से मामला संदिग्ध

1. खुशबू की टुड्डी पर तीन जख्म के निशान मिले हैं। ये कैसे हुए?

2. खुशबू की पैंट पर खून के धब्बे होने की बात परिजन बता रहे हैं। ये कैसे आए?

3. खुशबू अपनी सहेली के साथ बिग बाजार आई थी। उसके साथ वहां और कौन था?

4. घरवालों को काफी देर बाद मिली घटना की जानकारी। प्रारंभ में क्यों नहीं?

5. जहर खाने के बाद हाथ में कैसे रह गई गोली। गिरी क्यों नहीं? -------

Posted By: Jagran