निरसा, जेएनएन:  लगभग 31 वर्ष पूर्व निरसा के सिंदरी कॉलोनी में स्थापित की गई  भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी की प्रतिभा के साथ असामाजिक तत्वों ने छेड़छाड़ की है। स्थापित प्रतिमा का सिर  किसी ने तोड़कर कहीं फेंक दिया है। इस घटना से सिंदरी कॉलोनी वासियों व कांग्रेसियों में आक्रोश देखा जा रहा है।

इस संबंध में निरसा प्रखंड कांग्रेस  अध्यक्ष डीएन प्रसाद यादव ने अज्ञात असामाजिक तत्वों के खिलाफ निरसा थाना में शिकायत दर्ज करवाने की बात कही है।  शुक्रवार की सुबह जब कॉलोनी के लोग अपने घरों से सो कर उठे तो देखा कि सिंदरी कॉलोनी मोड़ पर स्थापित पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की प्रतिमा का  सिर नहीं है।

कुछ ही देर में यह बात जंगल में आग की तरह फैल गई । स्थानीय लोग जुटे और प्रतिमा से गायब सिर को आस पास काफी ढूंढा। लेकिन कहीं पर पता नहीं चला। इसको लेकर स्थानीय लोगों व कांग्रेसियों में आक्रोश व्याप्त है। स्थानीय लोगों का कहना है कि यह काम असामाजिक तत्वों का है। असामाजिक तत्वों पर कार्रवाई होनी चाहिए। स्थानीय लोगों ने बताया कि 21 मई 1991 को पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी की हत्या हुई थी।  उसके ठीक एक माह बाद 21 जून 1991 को बराकर इंजीनियरिंग फाउंड्री वर्कशॉप में कार्यरत मजदूरों व कॉलोनीवासियों ने राजीव गांधी की प्रतिमा सिंदरी कॉलोनी चौक पर स्थापित करवाई थी। बराकर इंजीनियरिंग फाउंड्री वर्कशॉप के तत्कालीन कार्मिक प्रबंधक ने प्रतिमा का अनावरण किया था। तब से प्रतिवर्ष राजीव गांधी की पुण्यतिथि व जयंती पर उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि का कार्यक्रम आयोजित होते आ रहा है। 

Edited By: Atul Singh