धनबाद, जेएनएन  : आयुर्वेद एक प्राचीन चिकित्सा पद्धति है। जिसके माध्यम से गंभीर से गंभीर बीमारियों का उपचार किया जा सकता है। आईआईटी आईएमएम धनबाद के रिदम क्लब की ओर से आयोजित आयुर्वेद से संबंधित भ्रम और तत्व पर एक वेबीनार का आयोजन किया गया।

इसमें श्रीश्री तत्व आर्ट ऑफ लिविंग इंटरनेशनल आश्रम बेंगलुरु के सीनियर कंसलटेंट डॉ अभिषेक कुमार ने छात्र छात्राओं को संबोधित किया। उन्होंने आयुर्वेद के मूल वात, पित्त, कफ की जानकारी और शरीर में होने वाली बीमारियों, स्ट्रेस आदि पर चर्चा की।

उन्होंने बताया की बड़ी से बड़ी बीमारी का यदि पहले आयुर्वेदिक उपचार कराया जाए तो उसमें अत्यंत सुधार किया जा सकता है। मिथक के तौर पर कई बात सामने आती है। मसलन आयुर्वेदिक दवा काम करने में अधिक समय लेती है और बहुत अधिक प्रभावी नहीं होती है।

आयुर्वेद एक बहुत प्राचीन और प्रचलित प्रणाली है। आयुर्वेद दवाओं में नैदानिक परीक्षण की कमी होती है। और आयुर्वेदिक उपचार के लिए चिकित्सक की जरूरत नहीं होती है। वेबीनार में शामिल छात्र-छात्राओं ने भी आयुर्वेद से जुड़े कई सवाल पूछे। जिसका डॉ अभिषेक ने जवाब दिया। उन्होंने कहा कि आम बीमारी से लेकर गंभीर रोगों में भी आयुर्वेद सुधार कर सकता है मधुमेह फंगल इन्फेक्शन एनीमिया मेंटल टेंशन जैसी कई बीमारियां इससे दूर हो सकती है यदि समय पर उपचार किया जाए तो वेबीनार में प्रोफेसर एसके सिंह शिक्षिका सोनाली सिंह प्रशिक्षक मयंक सिंह क्लब से हर्षिका दिवाकर शिवांगी उत्तम शुभम पायल एकता विकास रौनक आदि महत्वपूर्ण योगदान रहा

Edited By: Atul Singh