गोविंद नाथ शर्मा, झरिया: साइलेंट किलर यानी उच्च रक्तचाप हार्ट अटैक और ब्रेन हेमरेज से मनुष्य की मृत्यु होने का एक प्रमुख कारण है। हर साल उच्च रक्तचाप यानी हाई ब्लड प्रेशर से हजारों लोगों की मौत हो जाती है। लोगों में गलत रहन-सहन और खान-पान के कारण उच्च रक्तचाप की बीमारी दिनों दिन बढ़ती जा रही है। उच्च रक्तचाप से होने वाली मौत को कम करने, लोगों में जागरूकता बढ़ाने और इसकी रोकथाम के लिए हर वर्ष विश्व स्वास्थ्य संगठन व अन्य स्वास्थ संस्थाओं की ओर से 17 मई को विश्व उच्च रक्तचाप दिवस मनाया जाता है। उच्च रक्तचाप की बीमारी से झरिया, धनबाद कोयलांचल भी अछूता नहीं है। यहां हर वर्ष सैकड़ों लोगों की मौत इससे हो जाती है।

झरिया, धनबाद कोयलांचल के लगभग 25 से 30 प्रतिशत हर उम्र के लोग उच्च रक्तचाप की बीमारी से पीड़ित हैं। झरिया के सरकारी चिकित्सक डॉक्‍टर अभिजीत सिंह कहते हैं कि उच्च रक्तचाप पर काबू पाने के लिए लोगों को सबसे पहले लाइफ स्टाइल को चेंज करना होगा। खानपान में बदलाव बहुत जरूरी है। फाइबर युक्त भोजन हमें करना होगा। फास्ट फूड से बचना होगा। हर दिन योग करने के साथ तनाव मुक्त जीवन जीना होगा। तभी हम हाई ब्लड प्रेशर की बीमारी से मुक्ति पा सकते हैं। डॉ अभिजीत ने कहा कि हमें फिर से पुराने जमाने के बुजुर्गों के रहन-सहन को अपनाना होगा। वर्तमान में अभी लोग इसका उल्टा कर रहे हैं। शरीर को आराम देकर दिमाग को बेवजह अधिक चलाते हैं। देर रात तक मोबाइल में बिजी रहते हैं। प्रकृति ने दिन को काम करने और रात को सोने के लिए ही बनाया है। हमें इसका ख्याल रखना चाहिए।

झरिया के ही डॉक्टर ओपी अग्रवाल ने कहा कि हाई ब्लड प्रेशर को काबू में करना बहुत जरूरी है। हाई ब्लड प्रेशर से ब्रेन हेमरेज और हार्ट अटैक की घटनाओं से लोगों की मौतें अधिक हो रही हैं। झरिया के चिकित्सक डॉ नरेश प्रसाद ने कहा कि लोगों की दिनचर्या पूरी तरह से बदल जाने के कारण ही हाई ब्लड प्रेशर बीमारी का जन्म हुआ। हाई ब्लड प्रेशर पर नियंत्रण बहुत जरूरी है। तभी हम स्वस्थ रह सकते हैं।

उच्च रक्तचाप के यह हैं कारण: उच्च रक्तचाप के खतरों को बढ़ाने के कई प्रमुख कारण हैं। इनमें गलत रहन सहन, फास्ट फूड का सेवन, बहुत अधिक नमक खाना, पर्याप्त फल और सब्जियां न खाना, पर्याप्त व्यायाम न करना, बहुत अधिक शराब या कॉफी पीना, अधिक वजन होना और अधिक नींद न लेना या नींद में व्यवधान पड़ना शामिल हैं। उच्च रक्तचाप एक साइलेंट किलर है उच्च रक्तचाप वाले अधिकांश लोग इस समस्या से अनजान होते हैं। इस बीमारी की कोई चेतावनी या लक्षण कम होते हैं। चिकित्सकों के अनुसार गंभीर उच्च रक्तचाप से थकान, कै, उल्टी, सीने में दर्द और मांसपेशियों में कंपन पैदा कर सकता है।

ऐसे बचा जा सकता है उच्च रक्तचाप की बीमारी से: डॉक्टरों की सलाह है कि उच्च रक्तचाप बीमारी से बचने के लिए सबसे पहले लोगों को अपनी जीवनशैली सुधारनी चाहिए। नियमित योग का सहारा लेना चाहिए। फास्ट फूड नहीं खाना चाहिए। खाने में नमक का प्रयोग कम करना चाहिए। ऐसे खाद्य पदार्थों को चुनना जिनमें सोडियम की मात्रा सीमित हो। शराब, तम्बाकू का सेवन नही करना चाहिए, क्योंकि इसका बहुत अधिक सेवन उच्च रक्तचाप के स्तर को बढ़ा सकता है। उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोगों को हमेशा चिकित्सक की सलाह लेते रहना चाहिए। खाने में फलों, हरी सब्जियों, साबुत अनाज और अन्य फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का अधिक से अधिक सेवन करना चाहिए, तभी हम उच्च रक्तचाप की बीमारी से छुटकारा पा सकते हैं।

Edited By: Deepak Kumar Pandey