देवघर, जेएनएन। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने देवघर के बाबा मंदिर में आज पूजा अर्चना की। इसके बाद सीएम ने श्रावणी मेले का उद्घाटन किया। सीएम ने कहा कि भक्तों की श्रद्धा व विश्वास में हमारी आस्था है। बाबा मंदिर में पूजा अर्चना के बाद सीएम ने श्रद्धालुओं से मुलाकात की।

सीएम ने कहा कि सभी पर भगवान शिव की कृपा बनी रहे, यही बाबा से प्रार्थना की। सीएम ने कहा कि श्रावणी मेले का उद्घाटन करने का सौभाग्य मिला। मैं 7 साल कांवड़ लेकर आ चुका हूं। मुझे इनकी मुश्किलों का पता है। अब किसी को कोई दिक्कत नहीं होगी। 

मेरी सरकार देवघर को टूरिज्म सर्किट बनाएगी, आसपास के इलाकों का सौंदर्यीकरण होगा और देवघर पर्यटन को एक नया चेहरा दिया जाएगा।

मुझे पता है कि शिवभक्तों को रास्ते में क्या क्या परेशानी झेलनी पड़ती है, इसलिए मेरी सरकार ने आपके लिए पुख्ता इंतजाम किए हैं। देवघर को टूरिज्म सर्किट बनाने से हजारों-लाखों की संख्या में लोगों को रोजगार मिलेगा। लोगों को रोजगार मिले ये हमारी प्राथमिकता है।

इस मौके पर उनके साथ नगर विकास मंत्री सीपी सिंह, पर्यटन मंत्री अमर बाउरी, श्रममंत्री राज पलिवार, कृषि मंत्री रणधीर सिंह, गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे, दुमका सांसद शिबू सोरेन आदि मुख्य रूप से मौजूद थे। अधिकारियों ने बताया कि मेला को 16 थाना क्षेत्रों में बांटकर तैयारी की गई है। इसके लिए करीब छह हजार जवान तैनात किए गए हैं।

श्रावणी मेलाः सज गया बाबा का दरबार, देखें तस्वीरें

शिवगंगा तट पर नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स (एनडीआरएफ) की निगरानी बढ़ा दी गई है। दुम्मा से निकलते ही हर कांवड़िया का फोटोयुक्त निबंधन होगा। कांवड़ियों को बेहतर सुविधा देने और सुगम जलार्पण कराने की तैयारी पूरी कर ली गई है।

देवघर में सावन सा नजारा, मानसरोवर से आगे पहुंची कतार

शनिवार सुबह से ही कांवड़ियों की लंबी कतार लग गई। यह कतार मानसरोवर से आगे चली गई। दिनभर एक ही रफ्तार में जलाभिषेक चलता रहा। शाम चार बजे के बाद तक कांवड़ियों के आने का सिलसिला बरकरार था।

बहुत लोग आज ही गुरु पूर्णिमा मान रहे हैं और इस कारण कांवड़ियों के साथ-साथ बहुत से स्थानीय लोग भी बाबा का दर्शन करने मंदिर पहुंचे। सुगम जलार्पण के लिए मंदिर में हर संभव व्यवस्था की गई थी। दंडाधिकारी व सुरक्षा कर्मी पूरी तरह से मुस्तैद थे। रविवार के बाद मंदिर में स्पर्श पूजा बंद कर अरघा लगा दिया जाएगा। इस कारण भी ज्यादा से ज्यादा लोग बाबा का स्पर्श पूजा करने के ख्याल से भी मंदिर पहुंच गए।

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस