देवघर, जेएनएन। याैन उत्पीड़न में फंसे झारखंड विकास मोर्चा (पी) के विधायक प्रदीप यादव पर पुलिस ने दबाव बढ़ा दिया है। प्राथमिकी दर्ज होने के करीब एक माह बाद विधायक गुरुवार को पुलिस के समक्ष हाजिर हुए। देवघर साइबर थाना में बिठाकर सुबह लगभग 9 बजे से 11:30  बजे तक पूछताछ की गई।

लोकसभा चुनाव से पहले झारखंड विकास मोर्चा की नेत्री ने पार्टी विधायक प्रदीप यादव पर देवघर स्थित एक होटल में इज्जत लूटने का प्रयास करने का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई थी। चुनाव के दाैरान यह मामला चर्चा में रहा। चूंकि, यादव गोड्डा लोकसभा क्षेत्र से महागठबंधन के प्रत्याशी थे। इस मुद्दे को भाजपा प्रत्याशी गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे ने जोर-शोर से उठाया। राजनीतिक मामला होने के कारण चुनाव के दाैरान पुलिस फूंक-फूंक कदम बढ़ा रही थी। चुनाव में यादव की करारी हार के बाद दबाव बढ़ा दिया है। विधायक से जुड़ा मामला होने के कारण पुलिस ने पूछताछ के लिए नोटिस भेजा।विधायक जब हाजिर नहीं हुए तो पुलिस ने दोबारा नोटिस भेजा। इसके बाद यादव गुरुवार सुबह देवघर स्थित साइबर थाना में हाजिर हुए।इस दाैरान पुलिस ने  यादव से कई सवाल किए। यादव ने स्वीकार किया कि वह होटल में बिल जमा करने गए थे। लेकिन,पार्टी नेत्री  के आरोपों को  सिरे से खारिज किया। पूछताछ करने वालों में एसडीपीओ विकास चंद्र श्रीवास्तव और इंस्पेक्टर संगीता कुमारी थे।

पूछताछ के बाद साइबर थाना से निकलते हुए यादव ने मीडिया से कहा कि राजनीतिक साजिश के तहत उनपर मामला दर्ज कराया गया है। अपना बयान दर्ज करा दिया है। पुलिस जांच कर रही है। इससे ज्यादा कुछ नहीं कहना है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: mritunjay

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप