संवाद सहयोगी, मधुपुर (देवघर) : पूर्व मुख्यमंत्री सह झाविमो प्रमुख बाबूलाल मरांडी ने कहा कि आज देश की सबसे बड़ी समस्या महंगाई और बेरोजगारी है। प्रधानमंत्री मन की बात करते हैं मगर जान की बात नहीं सुनते। वे मंगलवार को किसान भवन में पत्रकारों से बात कर रहे थे। कहा कि देश को ऐसा प्रधानमंत्री नसीब हुआ है जो झूठ के अलावा कुछ नहीं बोलते हैं, इसलिए पार्टी का नाम बदलकर भारतीय झूठा पार्टी रख देना चाहिए।

2014 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री ने महंगाई कम करने की बात कही थी। लेकिन ठीक इसके विपरीत महंगाई बढ़ती चली गई। पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस की कीमतों में लगातार वृद्धि हो रही है। प्रधानमंत्री के चुनावी वायदे के इन चार सालों में देश के आठ करोड़ लोगों को नौकरी मिल जानी चाहिए थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। काला धन लाने का मामला ठंडे बस्ते में चला गया। देश की जनता की गाढ़ी कमाई को सरकार ने लूटा। नीरव मोदी, विजय माल्या जैसे कई उदाहरण हैं। जिसने देश की गरीब जनता की कमाई को चट कर ली। लेकिन सरकार कुछ नहीं कर सकी। झारखंड में भी भाजपा की ही सरकार है। जहां विधि व्यवस्था बद से बदतर हो चुकी है। चोरी, डकैती, बलात्कार, हत्या बढ़ गई है। झारखंड राज्य गठन के बाद इतनी बदतर कानून-व्यवस्था नहीं हुई थी। राज्य बनने के बाद रघुवर सरकार के कार्यकाल में आधे दर्जन से अधिक लोगों की मौत भूख से हो गई। इसका मुख्य वजह गरीबों को मिलने वाले अनाज के 11 लाख से अधिक राशन कार्ड को रघुवर सरकार द्वारा रद्द किया जाना है। ढाई लाख से अधिक वृद्धा पेंशन के लाभुकों का बैंक खाता बंद कर दिया गया। साढ़े पांच हजार विद्यालयों को बंद कर दिया गया। छह हजार विद्यालयों को बंद करने की तैयारी की जा रही है। इससे लाखों गरीब बच्चा स्कूल जाने से वंचित रह जाएगा।

सरकार पर ऊर्जा नीति को बदल कर कारपोरेट घरानों को लाभ पहुंचाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि गोड्डा में अडानी पावर प्लांट से न तो झारखंड को लाभ मिलेगा न ही भारत को। बल्कि यहां से उत्पादित बिजली को सीधे बांग्लादेश भेजा जाएगा। कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के पुत्र के 50 हजार के बिजनेस को 80 करोड़ बना दिया गया। बाबूलाल ने कहा की जनता ने मूड बना लिया है कि वह बीजेपी सरकार को उखाड़ फेंकेगी। मौके पर पार्टी के केंद्रीय प्रवक्ता अशोक वर्मा, केंद्रीय कार्यसमिति सदस्य सहीम खान, नगर अध्यक्ष अमेरिका यादव सहित दर्जनों कार्यकर्ता मौजूद थे।

Posted By: Jagran