देवघर, जासं। झारखंड सरकार के एक मंत्री और एक संवेदक के बीच हुई बातचीत का ऑडियो वायरल हुआ है। मंत्री संवेदक से कार्यकर्ताओं के लिए व्यवस्था करने की बात कह रहे हैं। ऑडियो में मंत्री संवेदक से अपने कार्यकर्ताओं के लिए 50 हजार रुपये देने की बात कहते हुए सुने जा रहे हैं। यह ऑडियो कब का है, इसे किसने जारी किया यह स्पष्ट नहीं हो सका है लेकिन सियासी गलियारों से होते हुए आम जन तक यह चर्चा में है।

ऑडियो का संवाद

हैलो, माननीय मंत्री जी बात करेंगे। मंत्री की आवाज, वहां वाला बोले थे न बात करने के लिए। पोखरिया वाला पीसीसी में कार्यकर्ताओं के लिए व्यवस्था करने के लिए। क्या किए हैं!

ठेकेदार, वहां तो जमीन वाला में भी पैसा लिया है। 60 हजार लिया है। बहुत दिक्कत है।

मंत्री, जमीन तो अलग विषय है। कार्यकर्ताओं के लिए क्या किए। 50 हजार देने बोले थे। फुरकान और पुटटू लोग को बोले थे कि पैसा मिलेगा, काम डिस्टर्ब नहीं करना।

ठेकेदार, सर जैसा आपका आदेश होगा। आप फोन कर दिए, वह बड़ी बात है। लेकिन देखते हुए सर। बहुत दिक्कत है।

मंत्री, अरे नहीं-नहीं 25 आदमी है उसमें।

ठेकेदार, नहीं सर। 25 आदमी नहीं है, दस बारह आदमी है। हम 25 हजार दे देंगे। बहुत परेशानी है।

मंत्री, अरे नहीं भई। 25 आदमी है, इतना में क्या होगा।

ठेकेदार, हम कर देंगे सर। आपका आदेश का पालन करेंगे लकिन हमलोगों का भी ध्यान रखिए।

मंत्री, ध्यान तो है ही। आप लोग तो डायरेक्ट कभी संपर्क करते नहीं हैं।

ठेकेदार, हां सर। कंसर्निंग नहीं हुआ। हम तो मधुपुर में रहते हैं सर।

मंत्री, पालाजोरी में बीस बड़ा-बड़ा काम निकाल रहे हैं। 80 लाख, एक करोड़, 70 लाख का काम है। टेंडर होगा इसी महीने में। आपको एडजस्ट करा देंगे।

ठेकेदार, जी सर।

मंत्री, अच्छा सुनिए न। 40 हजार रुपया जो दीजिएगा न, वह यहां विष्णु जी को दे दीजिएगा। हमारे पास भिजवाइये। हमहीं बांट देंगे, नहीं तो उ सब खा जाएगा पैसा।

ठेकेदार, ठीक है सर। आपके आदेश का पालन करेंगे। लेकिन सर हमरा बिल फंसा हुआ है।

मंत्री, हां एग्जीक्यूटिव रोके हुए है। झाड़ते हैं उसको। निकल जाएगा बिल। पैसा विष्णु जी को भिजवा दीजिएगा। मंत्री, हां पैसा भिजवाइये। हम बंटवा देंगे नहीं तो उन लोग वोट खराब कर देगा।

ठेकेदार, जी सर। बिल जैसे ही निकलेगा पैसा भिजवा देंगे। 

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप