सारवां : प्रखंड क्षेत्र के सैकड़ों दिव्यांगों को पिछले 19 माह से अब तक पेंशन लंबित रहने के मामले को लेकर करीब आधा दर्जन दिव्यांग प्रमुख मुकेश कुमार से मिलकर अपनी समस्याओं से अवगत कराया। दिव्यांगों द्वारा प्रमुख को बताया गया कि पूर्व में उन लोगों को स्वामी विवेकानंद निश्श्क्त योजना के तहत पेंशन मिल रहा था लेकिन 31 मार्च 2018 के बाद से अब तक पेंशन लंबित है। पेंशन भुगतान करने को लेकर कई बार बाल विकास परियोजना कार्यालय में आधार कार्ड, पासबुक, निश्श्क्त प्रमाण पत्र के अलावा अन्य कागजातों की छाया प्रति देने के बाजवूद भी पेंशन की राशि सुचारु नहीं किया जा सका। संबंधित विभाग के र्किमयों से इसकी जानकारी लेने पर बताया कि कार्रवाई हो रही है। जल्दी ही पेंशन मिल जाएगा। मौके पर दिव्यांग जितेंद्र कुमार, महादेव हाजरा, गणेश महतो काíतक वर्मा, मदन कुमार समेत कई ने कहा कि 31 मार्च 2018 के बाद से अब तक उन्हें को पेंशन नहीं मिला है। कई बार आवश्यक कागजात ऑफिस में देने के बाद भी चक्कर लगाकर थक चुके हैं। फिर भी अब तक पेंशन लंबित है। प्रमुख मुकेश कुमार ने कहा कि काफी शिकायत पेंशन एवं कन्यादान योजना से संबंधित मिल रही है।

सीडीपीओ के निरंतर ऑफिस नहीं आने के कारण योजनाओं का लाभ सही समय में ग्रामीणों को नहीं मिल रहा है। इसके पूर्व भी सीडीपीओ को निर्देश दिया गया था की हरहाल में दिव्यांगों का अपडेट करें लेकिन 2018 से अब तक लंबित होना दुर्भाग्यपूर्ण है। कहा कि इसकी जानकाीर उपायुक्त को भी दी जाएगी। इधर सीडीपीओ आशुतोष झा ने बताया कि उनके आने के पूर्व कुछ मामले लंबित थे। इसके बाद सरकार द्वारा निर्देश आया की सभी दिव्यांगों का एनएसएपी पोर्टल पर अपडेट होने के बाद ही लाभ मिल सकेगा। जिसके लिए फॉर्मेट की मांग संबंधित सेविकाओं से की गई है। किसी भी दिव्यांग को ऑफिस का चक्कर नहीं लगाना है। अपने सेविका या परिजन के माध्यम से कागजात ऑफिस में भिजवा सकते हैं। प्रखंड में कुल 1055 दिव्यांग सूची में शामिल है जिसमें 50 फीसद दिव्यांगों का पोर्टल पर अपडेट किया जा चुका है। शेष का पेपर मिलते ही शीघ्र भुगतान किया जाएगा। 10 दिन के अंदर लंबित दिव्यांगों का पेंशन भुगतान पेपर जमा होते ही सुनिश्चित होगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप