जागरण संवाददाता, देवघर : एलपीजी वितरक केंद्र दिलाने के नाम पर 65 हजार रुपये ठगे जाने का मामला प्रकाश में आया है। मामले को लेकर पीड़ित देवीपुर थाना क्षेत्र के कसाठी गांव निवासी हरिकृष्ण कुमार मंडल में साइबर थाना में शिकायत दर्ज कराया है। इसमें पीड़ित का कहना है कि एलपीजी वितरक केंद्र के साइट पर जाकर ऑनलाइन अप्लाई किया था। अप्लाई करने के कुछ दिन बाद उनके जीमेल आइडी पर एक अप्रूवल लेटर आया। मेल आने के कुछ देर बाद ही उनके मोबाइल पर एक अज्ञात नंबर से कॉल आया। फोन करने वाला व्यक्ति ने उन्हें रजिस्ट्रेशन फीस के रूप में 29,500 रुपये जमा कराने को कहा। इसके बाद पोस्ट के माध्यम से अप्रूवल लेटर पहुंच जाएगा। इसके बाद पीड़ित ने दिए गए अकाउंट नंबर पर मांगी की रकम जमा करा दिया लेकिन इसके बाद भी उन्हें अप्रूवल लेटर नहीं मिला। कुछ दिन बाद दोबारा उनके मोबाइल पर फोन आया और उन्हें बताया गया कि कंपनी का अप्रूवल हो गया है। इसके बाद उनके गोदाम में गैस रखा जाएगा। गैस में विस्फोट होने की स्थिति में इस तरह की परेशानी से बचाने के लिए एनओसी बनवाना होगा। एनओसी के एवज में 70,800 रुपये जमा कराना पड़ेगा। यह एनओसी 30 साल के लिए मान्य होगा।

वहीं 15 साल के लिए एनओसी के लिए 35,400 रुपये जमा कराने को कहा। पीड़ित ने एनओसी के लिए 35,400 रुपये भी उसके खाते में जमा करा दिया। इस तरह कुल मिलाकर पीड़ित ने दो बार में कुल 64,900 रुपये जमा करा दिए। रुपये जमा कराने के बाद भी पीड़िता को कोई भी दस्तावेज पोस्ट के माध्यम से नहीं भेजा गया। तब उसे ठगे जाने का एहसास हुआ तो साइबर थाना में शिकायत दर्ज कराया। साइबर पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस