देवघर : विद्युत कर्मियों की मांगे नहीं सुनी जा रही है। इससे कर्मियों में आक्रोश है। झारखंड स्टेट इलेक्ट्रिक सप्लाई वर्कर्स यूनियन के बैनर तले शुक्रवार को कर्मियों ने विद्युत अंचल कार्यालय देवघर के समक्ष धरना दिया।

यूनियन के शाखा सचिव अशोक कुमार साह ने कहा कि 25 अप्रैल को सहायक विद्युत अभियंता कार्यालय में मांगों पर समझौता हुआ था, लेकिन किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं होने के कारण धरना के लिए कर्मियों को बाध्य होना पड़ा। उन्होंने कहा कि प्रबंधन का रवैया मजदूर विरोधी है। शोषण तथा जीवन से खिलवाड़ किया जा रहा है। कार्यपालक अभियंता रामजन्म यादव से हुई वार्ता के बाद कर्मी धरना से हटे। उन्होंने कहा कि स्थानीय स्तर पर जो मांगे पूरी होने वाली है उसे सावन के पूर्व पूरा कर लिया जाएगा। उधर उपमहामंत्री रंजीत प्रसाद सिंह ने कहा कि मांगें पूरी करने के लिए दो दिन का समय दिया गया है। दो दिन में सकारात्मक पहल नहीं हुई तो फिर से आंदोलन का रास्ता अख्तियार किया जाएगा। इस मौके पर इस मौके पर क्षेत्रीय सचिव रंजीत प्रसाद भदानी, अंचल सचिव नागेन्द्र कुमार मेहता, प्रमंडलीय सचिव प्रदीप कुमार राय आदि मौजूद थे।

क्या है मांग

यूनियन द्वारा मानव दिवस कर्मियों को परिचय पत्र देने, ओवर टाइम का भुगतान, पदाधिकारी के आदेश पर शटडाउन, टार्च, दस्ताना, रेन कोट व औजार की व्यवस्था तथा प्रोन्नति आदि की मांग की जा रही है।