मोहनपुर : दुमका-रांची इंटरसिटी एक्सप्रेस के घोरमारा में ठहराव की मांग पर मंगलवार को झारखंड असंगठित मजदूर संघ के बैनर तले ग्रामीणों ने देवघर-दुमका रेलवे ट्रैक को घोरमारा के पास रोक दिया। रांची से दुमका जानेवाली इंटरसिटी एक्सप्रेस करीब तीन घंटे तक रुकी रही। डीआरएम के आश्वासन के बाद रेल परिचालन सामान्य हुआ।

दुमका-जसीडीह के बीच घोरमारा रेलवे स्टेशन पर ट्रेन के ठहराव की मांग पिछले तीन महीने से की जा रही थी। प्रतिदिन 50-60 गांवों के लोग यहां से ट्रेन से जाते हैं। श्रावणी मेला के पूर्व से ही ठहराव की मांग की जा रही थी। लेकिन रेलवे विभाग द्वारा इसे नहीं मानने पर संघ के बैनर तले सैकड़ों ग्रामीणों ने ट्रैक जाम कर दिया। सुबह करीब छह बजे दुमका जानेवाले इंटरसिटी एक्सप्रेस को रोक दिया। इससे रेल यात्रियों को काफी परेशानी हुई।

डीआरएम के आश्वासन के बाद हटा जाम

ट्रैक जाम की जानकारी होते ही जहां रेल पुलिस लोगों को समझाने-बुझाना शुरू किया। लोगों ने इसे अनसुना कर दिया। जाम कर रहे लोग डीआरएम को बुलाने की मांग पर अड़े थे। इस बीच आसनसोल डिवीजन के रेल अधिकारी आईबीएम भरत कुमार, आरके राम जाम स्थल पर पहुंचे और लोगों को समझाने का प्रयास किया। बाद में डीआरएम से आंदोलनकारियों का नेतृत्व कर रहे नवल किशोर मंडल से फोन पर डीआरएम की बात कराई गई। डीआरएम ने कहा कि 29 अक्टूबर के बाद इस दिशा में कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद लोगों ने ट्रैक पर से जाम हटाया। घोरमारा में इंटरसिटी ठहराव, कंप्यूटरीकृत आरक्षण केंद्र खोलने, स्टेशन में पानी, शौचालय की व्यवस्था करने, बुद्धुकुरम, अलकुई, सरसा व चितरपोका में रेलवे गेट बनाने की मांग की गई। संघ के नेता संजय मंडल, नवलकिशोर मंडल ने कहा कि अगर मांग को शीघ्र पूरा नहीं किया गया तो फिर से ट्रैक जाम किया जाएगा। मौके पर अश्विनी मंडल, भवेंद्र मंडल, पंचानन मंडल, मुखिया बिंदु मंडल, पंसस पूजा देवी, पिंकी देवी, प्रीतम कुमार, विश्वजीत कुमार, पीयूष कुमार, वचनदेव कुमार, गोविंद कुमार, त्रिशूल कुमार, हिमांशु शेखर समेत सैकड़ों लोग उपस्थित थे।

----------------------

लोगों ने कहा

ट्रेन ठहराव से लोगों को सुविधा मिलेगी तथा रेल को आमदनी होगी।

राजेश मंडल

घोरमारा पेड़ा व्यवसाय का उभरता केंद्र है। बासुकीनाथ-देवघर के बीच रहने के कारण यह महत्वपूर्ण जगह है।

सुभाष कुमार

प्रतिदिन सैकड़ों लोग इस स्टेशन से रांची व दुमका सहित अन्य स्थानों के लिए आवाजाही करते हैं। इसलिए इंटरसिटी का ठहराव जरूरी है।

विकास कुमार

प्रदेश की राजधानी रांची है और इंटरसिटी एकमात्र ट्रेन है जो रांची जाती है। इसलिए इसका ठहराव यहां जरूरी है।

अटल कुमार मंडल

ट्रेन के ठहराव से व्यवसायियों को लाभ मिलेगा। साथ ही स्थानीय लोग भी विभिन्न भागों में जा सकेंगे।

बालगोविंद मंडल

देवघर से बासुकीनाथ और बासुकीनाथ से देवघर आनेवाले यात्री घोरमारा में पेड़ा जरूर खरीदते हैं। ऐसे लोग जो रांची जाते हैं उन्हें इसका लाभ मिलेगा।

रंजीत कुमार

ट्रेन रोकने का अर्थ यह नहीं कि व्यवस्था के विरोध में लोग हैं। अधिकारियों को सही जानकारी देने के लिए आंदोलन करना पड़ता है।

नवल किशोर मंडल

घोरमारा से सटा हुआ मनोरम पर्यटक स्थल त्रिकुट पहाड़ है। यहां पर रोपवे लगा हुआ है। यहां आनेवालों को भी सुविधा होगी।

सौदागर मंडल

रेल रोकने का मकसद इंटरसिटी का ठहराव करना है। विभाग द्वारा इसकी अनदेखी करने के कारण यह कदम उठाना पड़ा।

संजीत कुमार

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर