बोकारो : झारखंड अभिभावक महासंघ बोकारो जिला की बैठक सेक्टर चार मजदूर मैदान में हुई। जिला संरक्षक राकेश मधु ने कहा कि निजी विद्यालय सरकार के निर्देश की अनदेखी कर रहे हैं। कोरोना काल में विद्यार्थियों से ट्यूशन के अलावा कंप्यूटर, री एडमिशन, लाइब्रेरी, कंप्यूटर, स्मार्ट क्लास चार्ज आदि वसूल किया जा रहा है। अनलाक छह में विद्यालय एवं कोचिग सेंटर खोलने का निर्णय लिया गया है। इसमें असमंजस की स्थिति है। सभी विद्यार्थियों को कम से कम पहला डोज टीका लगना चाहिए। निजी विद्यालयों में शुल्क निर्धारण कमेटी का गठन होना चाहिए। जिलाध्यक्ष नीरज पटेल ने कहा कि किसी भी निजी विद्यालय में न तो शुल्क निर्धारण कमेटी का गठन किया गया है और न ही जिले में शुल्क कमेटी वर्तमान में अस्तित्व में है। क्योंकि किसी भी विद्यालय ने शुल्क कमेटी की सूची अभी तक अपने वेबसाइट पर अपलोड नहीं किया गया है। महासंघ का प्रतिनिधिमंडल उपायुक्त, जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला शिक्षा अधीक्षक, प्रधान सचिव स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के साथ-साथ शिक्षा मंत्री से मिलकर अभिभावकों की समस्याओं के निष्पादन की अपील करेगा। मौके पर सचिव सुनील कुमार, नीरज सिंह, अनिल कुमार, धनराज कुमार, प्रभा भारती, सुमन कुमार सनम, रविद्र कुमार, सुनील कुमार, हेमलाल महतो आदि उपस्थित थे।

-------

स्कूली छात्रों के टीकाकरण की हो व्यवस्था

झारखंड अभिभावक संघ बोकारो के जिलाध्यक्ष महेंद्र राय ने कहा कि स्कूली छात्रों के टीकाकरण की व्यवस्था होनी चाहिए। 18 एवं इससे अधिक आयु वर्ग के सभी विद्यार्थियों को टीका लगाने के बाद ही स्कूल व कोचिग में जाने की अनुमति देनी चाहिए। स्कूल खोले जाने से पूर्व शिक्षक व शिक्षकेत्तर कर्मचारियों के लिए टीकाकरण अनिवार्य करना चाहिए। बच्चों की सुरक्षा के लिए यह जरुरी है।

Edited By: Jagran