जागरण संवाददाता, बोकारो: दामोदर नदी स्थित वाटर ट्रीटमेंट प्लांट की मुख्य पाइपलाइन की मरम्मत तीन दिनों में भी पूरी नहीं हो सकी, जिसकी वजह से चास शहरी क्षेत्र में लगातार तीसरे दिन भी जलापूर्ति बाधित रही। जबकि, क्षतिग्रस्त पाइपलाइन को 24 घंटे में ठीक कर लने का दावा नगर निगम की ओर से किया गया था, लेकिन तीन दिन बीतने के बाद भी पाइपलाइन को ठीक नहीं किया जा सका। वैसे विभाग ने बुधवार से जलापूर्ति की बात कही। देखा जाए तो आए दिन किसी न किसी कारण से चास की जलापूर्ति चार से पांच दिनों तक बाधित हो जाती है, जिससे चास में 35 वार्ड की डेढ़ लाख आबादी पर इसका असर पड़ता है। विभाग कभी बिजली नहीं रहने के कारण, तो कभी उपकरणों के खराब होने पर लोगों के घरों तक पानी पहुंचाने में असमर्थता जताता है। जबकि, चास नगर निगम क्षेत्र में 54 करोड़ रुपये की लागत से निगम क्षेत्र में पांच टंकी बनाकर दामोदर से पानी की आपूर्ति शुरू की गई, लेकिन अभी तक पेयजल समस्या का कोई स्थायी समाधान नहीं हो सका है। गर्मी शुरू होते ही लोगों को पानी की समस्या सताने लगती है। इधर, चास में तीन दिनों से बाधित जलापूर्ति पर रोष व्यक्त करते हुए शक्ति सेना प्रमुख प्रदीप बर्मन ने कहा कि नगर निगम अपने दायित्व से भाग रहा है। चास नगर निगम में पिछले तीन दिनों से जलापूर्ति ठप है, जनता पानी के लिए बेहाल हो रही है। लेकिन, इस समस्या पर नगर निगम के अधिकारियों का ध्यान नहीं जा रहा है। नगर निगम का पहला कार्यकाल समाप्त होने के बाद भी जनता को पानी के लिए पानी-पानी होना पड़ रहा है। जबकि चास नगर निगम द्वारा पानी टैक्स और होल्डिग टैक्स को लेकर जनता पर हंटर दिखाकर पैसा वसूला जा रहा है। कहा कि चास नगर निगम द्वारा जनता का शोषण किया गया तो शक्ति सेना इसे बर्दाश्त नहीं करेगा और आंदोलन करने पर बाध्य हो जाएगा।

Edited By: Jagran