जागरण संवाददाता, बोकारो: बोकारो के 231 सरकारी विद्यालयों को लीडर स्कूल के रूप में तब्दील किया जाएगा। वहीं, तीन विद्यालयों को आदर्श विद्यालय के रूप में परिणत किया जाएगा। इसको लेकर शिक्षा विभाग रेस हो गया है। यह जानकारी बोकारो जिला शिक्षा पदाधिकारी नीलम आइलिन टोप्पो ने दी। उन्होंने कहा कि आदर्श विद्यालय एवं लीडर स्कूल में विद्यार्थियों को बेहतर सुविधा व संसाधन उपलब्ध कराया जाएगा। विद्यालय में स्मार्ट क्लास, प्रत्येक विषय के आधुनिक प्रयोगशाला व पुस्तकालय, खेल के मैदान आदि की सुविधा उपलब्ध रहेगी। कहा कि रामरुद्र प्लस टू उच्च विद्यालय चास, प्रोजेक्ट ग‌र्ल्स हाई स्कूल नावाडीह व कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय कसमार को आदर्श विद्यालय के रूप में परिणत किया जाएगा। पहले चरण में रामरुद्र प्लस टू उच्च विद्यालय चास को विकसित किया जाएगा। इसको लेकर आज सोमवार को राज्य स्तरीय वेबिनार का आयोजन किया गया। इसमें आदर्श विद्यालय में रात्रि प्रहरी, माली व स्वीपर की बहाली, सभी वर्ग में स्मार्ट क्लास, आधुनिक प्रयोगशाला, प्राचार्य व शिक्षकों को तकनीकी ज्ञान देने आदि पर चर्चा की गई।

-लीडर स्कूल से बदलेगा शिक्षा का स्वरूप:

जिला शिक्षा पदाधिकारी ने कहा कि लीडर स्कूल से शिक्षा का स्वरूप बदलेगा। इससे ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थियों को काफी लाभ होगा। विभाग की ओर से सरकारी विद्यालयों को लीडर स्कूल में बदलने की प्रक्रिया शुरु की जाएगी। उत्क्रमित हाई स्कूल मानगो, प्राथमिक विद्यालय लबुडीह, उत्क्रमित मध्य विद्यालय पोखन्ना, उत्क्रमित मध्य विद्यालय आजादनगर, उत्क्रमित मध्य विद्यालय डाबर बहाल, मध्य विद्यालय माराफारी, उत्क्रमित राजकीयकृत हाई स्कूल रानीचिड़का, उत्क्रमित राजकीयकृत हाई स्कूल मधुनिया, उत्क्रमित राजकीयकृत हाई स्कूल मिर्धा, उत्क्रमित राजकीयकृत हाई स्कूल द्वारिका, उत्क्रमित राजकीयकृत हाई स्कूल झोपरो, पंचानन राजबाला प्लस टू हाई स्कूल सतनपुर सहित जिले के 231 सरकारी विद्यालयों को लीडर स्कूल के रूप में विकसित किया जाएगा।

Edited By: Jagran