राकेश शर्मा, कटड़ा :

कोरोना महामारी व उसके नए वैरिएंट ओमिक्रोन के खतरे और अन्य घटनाओं के बावजूद मां वैष्णो देवी यात्रा को लेकर श्रद्धालुओं में उत्साह बरकरार है। नववर्ष पर मां के भवन के साथ ही आधार शिविर कटड़ा श्रद्धालुओं से गुलजार है। तमाम विघ्न बाधाओं के बावजूद वर्ष 2021 में करीब 55 लाख 80 हजार श्रद्धालुओं ने मां के चरणों में हाजिरी लगाई।

जनवरी में 4,08,061, फरवरी में 3,89,549, मार्च में 5,25,198, अप्रैल में 3,21,735 श्रद्धालुओं ने मां के चरणों में हाजिरी लगाई। मई में कोरोना महामारी की दूसरी लहर के चलते सिर्फ 45,155 श्रद्धालु मां के दरबार पहुंचे। वहीं, जून में 1,98,490, जुलाई में 5,00,671, अगस्त में 5,21,970, सितंबर में 6,39,162, अक्टूबर में 7,53,500, नवंबर में 6,46,415 श्रद्धालुओं ने मां के दरबार में हाजिरी लगाई। वहीं, दिसंबर में 6,30,000 श्रद्धालु मां के दर्शन को पहुंचे।

वहीं, नववर्ष को लेकर माता का भवन और आधार शिविर कटड़ा एक सप्ताह पूर्व से ही गुलजार हो गया था। पिछले 25 दिसंबर को 24,900, 26 को 24,000 श्रद्धालु मां के दर्शन को पहुंचे थे। उसके बाद पंजाब में किसानों के रेल पटरियों पर प्रदर्शन के चलते ट्रेनें रद हो गई थीं, जिससे यात्रा का आंकड़ा घटकर 27 दिसंबर को 22,000, 28 को 16,000, 29 को 17,000 रहा। फिर किसानों का प्रदर्शन खत्म होने और ट्रेनों का संचलन शुरू होने के बाद यात्रा में बढ़ोतरी हो गई। गत वीरवार को 24,900 श्रद्धालुओं ने मां के दरबार में हाजिरी लगाई। वहीं, शुक्रवार को रात आठ बजे तक 23,000 श्रद्धालु भवन की ओर रवाना हो गए थे, और श्रद्धालुओं का आना अभी जारी था। कोरोना संक्रमण रोकने के लिए श्रद्धालुओं के टेस्ट जारी

मां वैष्णो देवी भवन सहित आधार शिविर कटड़ा में कोरोना महामारी का संक्रमण न फैले और यात्रा निरंतर जारी रहे, इसको लेकर स्वास्थ्य विभाग ने कटड़ा के प्रवेशद्वार के साथ ही सभी प्रमुख स्थानों पर कोरोना टेस्ट सेंटर बनाए हैं। जिन श्रद्धालुओं ने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगवा ली है और उनके पास प्रमाण पत्र है तो उन्हें सीधे दर्शन के लिए भवन की ओर रवाना किया जा रहा है, लेकिन जिन श्रद्धालुओं ने दोनों डोज नहीं लगवाई है, उनका टेस्ट करने के बाद आगे जाने दिया जा रहा है। श्रद्धालुओं के लिए श्राइन बोर्ड ने किए हैं सभी तरह के प्रबंध

सर्दी का मौसम शुरू हो चुका है। श्रद्धालुओं को यात्रा के दौरान किसी तरह की परेशानी न झेलनी पड़े, इसको लेकर श्राइन बोर्ड ने गर्म पानी के साथ ही कंबल और अंगीठी का इंतजाम मां भवन के साथ ही सभी यात्रा मार्गो पर किया है। इसके साथ ही श्रद्धालुओं से बार-बार आग्रह किया जा रहा है कि वे मास्क पहनकर रखें और यात्रा के दौरान विशेष शारीरिक दूरी का ध्यान रखें।

Edited By: Jagran