संवाद सहयोगी, पौनी : केंद्र सरकार द्वारा अच्छे दिन आने के लोगों को दिए गए आश्वासन पर आज लोग परेशानी झेलने को मजबूर हैं। बदहाल सड़कों से आए दिन हादसे हो रहे हैं लेकिन सड़कों की दयनीय हालत नहीं सुधारी जा रही है।

नवंबर 2014 में तेज बारिश के बाद क्षेत्र की सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई थीं लेकिन चार साल बीतने के बावजूद सरकार द्वारा अब तक सड़कों की हालत नहीं सुधारी गई। ग्रामीणों का कहना है कि केंद्र और राज्य में भाजपा सरकार के मंत्रियों द्वारा केंद्र सरकार की तरफ से मिलने वाली हर प्रकार की योजनाओं के बारे में लोगों को जागरुक किया जाता है, लेकिन स्थानीय प्रशासन एवं संबंधित विभागों के अधिकारी सड़क मरम्मत कार्य को लेकर कोई अमल नहीं कर रहे हैं। अधिकारियों की लापरवाही का खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। एक किलोमीटर सड़क पर तारकोल बिछाने के बाद 25 मार्च को बारादरी से पौनी दोमेल तक सड़क पर तारकोल डालने का पूर्व राज्यमंत्री एवं स्थानीय विधायक अजय नंदा ने उद्घाटन किया था। मात्र तीन दिन तक तारकोल डालने के बाद काम बंद कर दिया गया था। अब छह महीने से काम बंद पड़ा है, जिससे लोगों के साथ वाहन चालक परेशान हो रहे हैं।

पीडब्ल्यूडी ने बारादरी से पौनी दोमेल तक खस्ताहालत सड़क की मरम्मत एवं तारकोल डालने के लिए साढे़ 19 करोड़ रुपए का प्लान रखा गया था, जिसमें से साढे़ दस करोड रुपए मंजूर हो चुके हैं। लोगों का कहना है पिछले चार वर्षो से सड़क की दयनीय हालत को लेकर वाहन चालक एवं स्थानीय लोग परेशान हैं। पीडब्ल्यूडी द्वारा मार्च में मात्र 1 किलोमीटर सड़क पर तारकोल डालने के लिए ठेकेदार द्वारा अलॉटमेंट के पैसे जमा न करवाने पर काम बंद करवा दिया था। स्थानीय लोगों एवं वाहन चालकों ने डीसी रियासी प्रसन्ना रामास्वामी से सड़कों की मरम्मत करवाने के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों से बात कर समस्या हल करवाने की अपील की है।

..

शिवखोड़ी आने वाले श्रद्धालु होते हैं परेशान

पिछले चार साल से सड़क पर मलबा पड़ा हुआ है जिससे दोनों तरफ नालियां बंद पड़ी हैं। सितंबर 2014 में हुई बारिश के बाद पीडब्ल्यूडी द्वारा सड़क की मरम्मत को लेकर कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। रियासी से दोमेल तक करीब 40 किलोमीटर मार्ग तक सड़क की दयनीय हालत है। आए दिन शिवखोड़ी दर्शन के लिए आने वाले यात्री वाहन चालकों को परेशानियों का सामना करना पडता है।

....

बारादरी से दोमेल तक सड़क ग्रेफ को सौंपी जाए

2014 से पहले पौनी-रियासी सड़क 104 आरसीसी ग्रेफ के पास थी। तब सड़क की इतनी दयनीय हालत नहीं थी। सड़क पर छोटे-छोटे गड्ढों को भी मजदूरों द्वारा तुरंत भर दिया जाता था, लेकिन सड़क पीडब्ल्यूडी को सौंपने के बाद अब तक 4 बरसों में एक भी बार सड़क की मरम्मत नहीं की गई है। लोगों ने डीसी रियासी से पौनी- रियासी मार्ग को फिर से ग्रेफ के अधीन करने की मांग की है। पौनी रियासी सड़क का काम फिर से शुरू करने के लिए अलॉटमेंट की औपचारिकता पूरी की जा रही है। जैसे ही बरसात का मौसम खत्म होगा, मरम्मत कार्य शुरू कर तारकोल बिछा दी जाएगी। इससे पहले ठेकेदार द्वारा पूरे काम की सिक्योरिटी न भरने पर काम बंद कराया गया था। जैसे ही पूरे काम की सिक्योरिटी भरी जाती है मरम्मत कार्य फिर से शुरू कर दिया जाएगा।

राजकुमार कपाही, एक्सईएन पीडब्ल्यूडी रियासी।

Posted By: Jagran