जागरण संवाददाता, ऊधमपुर :

घाटी से सेब लाद कर पंजाब जा रहे पंजाब के ही ट्रक और उसमें सवार तीन लोगों के रामसू इलाके में लापता हो गई थे। इनकी तलाश में मदद करने को एनडीआरएफ की टीम रामबन पहुंची। वहीं मलबे को हटाने के लिए डिगडोल से दरिया किनारे से रवाना की गई मशीन दिन भर चलने के बाद भी मौके पर नहीं पहुंच सकी। रविवार को मशीन के मौके पर पहुंचने की उम्मीद है। इसके बाद ही मलबा हटाने का काम शुरू हो सकेगा।

जिस मलबे के नीचे ट्रक के दबे होने की आशंका जताई जा रही ह उस जगह से मानवीय तरीके से मलबा हटा कर खोज करना असंभव कार्य है इसलिए पोकलेन मशीन को मलबे वाली जगह तक पहुंचाने के लिए उसे डिगडोल से नीचे दरिया किनारे उतार कर बैट्री चश्मा की तरफ रवाना किया है। चूंकि रास्ता कठिन है दरिया किनारे कहीं पत्थर तो कहीं पर पानी तो कहीं मशीन गुजरने का रास्ता नहीं है। इस लिए मशीन को अपना रास्ता बनाते हुए आगे बढ़ना पड़ रहा है। इससे डिगडोल से दरिया किनारे से बैट्री चश्मा तक मलबे वाली जगह तक का करीब ढाई किलोमीटर का सफर शनिवार को पूरा दिन चलने के बाद भी मशीन तय नहीं कर सकी। रविवार को इस मशीन के वहां पर पहुंचने की उम्मीद है।

वहीं जिला पुलिस के आग्रह पर नेशनल डिजास्टर रिलीफ फोर्स (एनडीआरएफ) के श्रीनगर स्थित युनिट के विशेषज्ञ सहित 20 लोगों की टीम शनिवार को रामबन पहुंच गई। टीम के विशेषज्ञों ने नीचे खाई में उतर कर मलबे वाली जगह की जांच की। इसमें पुलिस को ट्रक के कुछ और हिस्से मिले हैं।

गौरतलब है कि पिछले सोमवार को ट्राला ट्रक नंबर पीबी06एके4045 रामसू इलाके में अचानक लापता हो गया। इसकी जानकारी रामबन पुलिस को ट्रक मालिक व उनके साथ उन तीन लोगों के परिजनों ने दी। जो ट्रक के साथ ही लापता हुए हैं। इसके बाद पुलिस ने जांच शुरु की तो पाया कि तीनों के मोबाइलों की अंतिम लोकेशन रामसू थी। उक्त ट्रक ने चिनैनी नाशरी टनल को भी पार नहीं किया है। इसके बाद बैट्री चश्मा में हुए भूस्खलन वाली जगह पर मलबे में ट्रक के तेल टैंक की पहचान उसके मालिक ने की। जिसके बाद ट्रक के मलबे में दबे होने की संभावना पुख्ता हो गई है। ------------

एनडीआरएफ की टीम शनिवार को पहुंची है। टीम ने व जिला पुलिस के अधिकारियों व जवानों ने मलबे वाली जगह की जांच की। इसमें कुछ और पुर्जे पाये गए हैं। जो संभावित लापता ट्रक के प्रतीत होते हैं। जिस जगह ट्रक के दबे होने की आशंका है, वहां पर मानवीय तरीके मलबा हटा कर तलाश करना मुमकिन नहीं है। पोकलेन भेजी गई है, मगर वह भी अभी नहीं पहुंची है। मशीन रविवार तक पहुंच जाएगी। मशीन पहुंचने के मलबा हटाने का काम शुरु हो सकेगा।

एसएसपी रामबन, अनीता शर्मा

Posted By: Jagran