जागरण संवाददाता, ऊधमपुर : वर्षों बाद नवरात्र के दौरान साख विसर्जन के बाद भी पावन देविका नदी इस बार स्वच्छ नजर आई। इससे पहले हर वर्ष देविका के प्रति गहरी आस्था रखने वाले साख के साथ पालीथिन , चुनरी व अन्य चीजों डाल कर दूषित करने में कोई कसर नहीं छोड़ते थे, लेकिन पिछले कुछ समय से देविका की स्वच्छता के लिए काम कर रही टीम देविका आर्मी के वालंटियर्स की मेहनत रंग लाई। सुबह से लेकर रात तक टीम देविका के वालंटियर्स साख विसर्जित करने के लिए आने वाले लोगों को जागरूक करते रहे। लोगों को नदी में केवल साख विसर्जित करने और पालीथिन, चुनरी व अन्य चीजें पास लगाए गए लोहे क जाली वाले बड़े डिब्बों में डालने की अपील करते रहे।

टीम देविका आर्मी के प्रयासों का

खासा असर देखने को मिला और लोगों ने भी देविका में केवल साख को ही विसर्जित किया। अन्य सारी चीजें किनारों लगाए डिब्बों में और किनारों पर रखी। यही वजह से सुबह से लेकर शाम तक साख विसर्जित होने के बावजूद देर शाम को देविका पूरी तरह से स्वच्छ नजर आई। यहां तक लोगों ने वह पात्र भी देविका के किनारों पर रख दिए, जिसमें साख लगाई गई थी। इस वजह से पिछले वर्षो की तुलना में इस बार पावन देविका नदी बेहद स्वच्छ नजर आई। केवल साख विसर्जित किए जाने की वजह से मिट्टी पानी में घुल गई और ज्यादातर साख पानी में विसर्जित होकर आगे चली गई। शाम को मौके पर टीम देविका की महिला वालंटियर संतोष कुमारी ने बताया कि वह और टीम के कुछ सदस्य सुबह से ही लोगों को जागरूक कर रहे हैं। लोगों ने भी पूरा सहयोग करते हुए देविका में साख के अलावा चुनरियां, पालीथिन व अन्य बेकार चीजें नहीं बहायी, जिससे देविका स्वच्छ रही।

Edited By: Jagran