श्रीनगर, [ राज्य ब्यूरो]। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था वाले श्रीनगर एयरपोर्ट के मुख्यद्वार के पास ही स्थित बीएसएफ की 182वीं वाहिनी और सीआरपीएफ की 37वीं वाहिनी के शिविर पर आतंकियों ने आज सुबह सवा चार बजे हमला किया। इस हमले में एक सब इंस्पेक्टर शहीद हो गया। एक एएसआइ समेत तीन सीमा प्रहरी घायल हो गए हैं। वहीं, जवानों ने मोर्चा लेते हुए तीन अातंकियों को ढेर कर दिया है।

जैश ने ली जिम्मेदारी 

श्रीनगर एयरपोर्ट हमले की जिम्मेदारी जैश ए मोहम्मद ने ली है। इससे पहले 16 जनवरी 2001 को श्रीनगर एयरपोर्ट पर हमला हुआ था। उस हमले में 11 लोग मारे गए थे।

 

आइजी मुनीर खान के मुताबिक, अंधेरे का फायदा उठाकर आतंकी बीएसएफ के प्रशासनिक भवन में प्रवेश कर गए। तीनों आतंकियों को मार गिराया गया। इसमें कोई शक नहीं है कि आतंकी जैश-ए-मोहम्मद से थे।

 

श्रीनगर एयरपोर्ट दोबारा खोला गया

बीएसएफ कैंप पर हमले के बाद एयरपोर्ट बंद कर दिया गया था। बाद में यात्रियों को एयरपोर्ट की ओर जाने के लिए रास्ता खोल दिया गया है। यात्रियों की असुविधा को कम करने के लिए जांच के बाद उन्हें एयरपोर्ट में प्रवेश दिया जा रहा है। अभी उड़ानें शुरू होने की सूचना नहीं है।

 

एयरपोर्ट के बाहर गाड़ियों की लंबी कतारें लगी हैं । वहां पर सीअारपीएफ के जवान तैनात हैं। आतंकियों को जहां घेरा गया है, वहां सीअारपीएफ के जवानों अलावा 53 RR, बीएसएफ और एसओजी तैनात है।   

 हालांकि शुरू में दावा किया जा रहा था कि आतंकियों ने एयरपोर्ट पर हमला किया है। लेकिन, बाद में संबधित अधिकारियों ने दावा किया कि आतंकी मुख्य गेट के पास ही रोक लिए गए और वह फायरिंग करते हुए निकटवर्ती शिविर में घुस गए। करीब एक घंटे तक दोनों तरफ से भीषण गोलीबारी हुई और साढ़े पांच बजे गोलीबारी बंद हुई। 

  

 

 

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस