राज्य ब्यूरो, श्रीनगर : वादी में सुरक्षाबलों ने ऑपरेशन ऑल आउट जारी रखते हुए शुक्रवार को उत्तरी कश्मीर के बांडीपोर से लेकर दक्षिण कश्मीर के शोपियां और पुलवामा में आतंकियों की धरपकड़ के लिए तीन जगह कासो चलाया। हालांकि इस दौरान आतंकी कहीं नहीं मिले, लेकिन पुलवामा में आतंकियों की समर्थक हिंसक भीड़ को खदेड़ने के लिए सुरक्षाबलों को बल प्रयोग जरूर करना पड़ा।

अधिकारियों ने बताया शाम को सूर्यास्त के बाद पुलवामा जिले के डलीपोरा गांव में लश्कर व हिज्ब के दो से तीन आतंकियों के आने की सूचना मिलते ही सेना, सीआरपीएफ और राज्य पुलिस के जवानों के एक संयुक्त कार्यदल ने वहां कासो चलाया।

जवानों को घेराबंदी करते देख युवकों ने भड़काऊ नारेबाजी के साथ ही सुरक्षाबलों पर पथराव शुरू कर दिया। सुरक्षाबलों ने पहले तो संयम बनाए रखा, लेकिन जब पथराव की तीव्रता बढ़ने लगी तो उन्होंने हिंसक भीड़ को खदेड़ने के लिए लाठियों का इस्तेमाल किया। इसके बाद वहां हिंसा भड़क उठी। देर शाम तक डलीपोरा में आतंकी समर्थक भीड़ और सुरक्षाबलों के बीच हिंसक झड़वें जारी थीं। इसके साथ ही सुरक्षाबलों ने अपना तलाशी अभियान भी जारी रखा हुआ था।

इससे पूर्व दोपहर को सुरक्षाबलों ने शोपियां जिले के मंमेंदर गांव में छिपे आतंकियों को पकड़ने के लिए कासो चलाया। करीब एक घंटे तक सुरक्षाबलों ने संदिग्ध मकानों को खंगाला और जब कुछ नहीं मिला तो उन्होंने तलाशी अभियान समाप्त कर दिया।

इस बीच, उत्तरी कश्मीर में जिला बांडीपोर के अंतर्गत चिटीबांडी के छलीवान गांव में सेना की 13 आरआर के जवानों ने राज्य पुलिस के जवानों के साथ मिलकर तलाशी अभियान चलाया। सुरक्षाबलों को वहां लश्कर के तीन आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी, लेकिन दो घंटे तक सुरक्षाबलों ने तलाशी ली और आतंकियों का सुराग न मिलने पर अभियान समाप्त कर दिया।

सूत्रों ने बताया कि चिटीबांडी और ममेंदर शोपियां में आतंकियों को सुरक्षाबलों के अभियान की भनक पहले ही लग गई थी। वह सुरक्षाबलों की घेराबंदी शुरू होने से पहले ही किसी सुरक्षित ठिकाने की तरफ निकल गए थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप