श्रीनगर के नौगाम में एक डॉक्टर समेत चार जगह पर हुई छापेमारी

पूछताछ के लिए एक और व्यक्ति को हिरासत में लिया गया

देविंदर को श्रीनगर से जम्मू लाया गया, अब यहीं होगी पूछताछ

---------

राज्य ब्यूरो, जम्मू: वर्दी का दागदार निलंबित डीएसपी देविदर सिंह और उनके तीन आतंकी साथियों को पूछताछ के लिए राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) बुधवार को श्रीनगर से जम्मू ले आई। एनआइए ने जांच के लिए पांच सदस्यीय दल बनाया है। इसके पहले एनआइए और पुलिस के एक संयुक्त कार्यदल ने बुधवार को एक बार फिर देविदर के मकान की तलाशी ली। श्रीनगर के नौगाम में एक डॉक्टर के मकान में भी छापा मारा, लेकिन वहां से खाली हाथ लौटना पड़ा। दक्षिण कश्मीर के गुलशनपोरा में भी सुरक्षाबलों ने तीन जगहों पर छापेमारी की है। इस मामले में एक और व्यक्ति को सुरक्षा एजेंसियों ने हिरासत में लिया है।

देविदर सिंह को पुलिस ने 11 जनवरी को श्रीनगर-जम्मू हाईवे पर अल-स्टाप कुलगाम में पकड़ा था। उस समय उसके साथ कार में लश्कर का कुख्यात ओवरग्राउंड वर्कर इरफान शफी मीर, हिजबुल का नामी आतंकी नवीद बाबू और आतिफ उर्फ आसिफ भी थे। पूछताछ के लिए दिल्ली से आइजी रैंक का एक अधिकारी समेत चार सदस्यीय दल भी श्रीनगर गया था। जम्मू से भी एनआइए की टीम जांच के लिए पहुंची थी। सूत्रों ने बताया कि एनआइए और पुलिस के एक संयुक्त दस्ते ने बुधवार सुबह इंदिरानगर स्थित देविदर सिंह के मकान की तलाशी ली। यह टीम कथित तौर पर शिवपोरा स्थित उस मकान में भी गई, जहां डीएसपी बीते पांच साल से अपने परिजनों संग रहा। जांच अधिकारियों ने इन दोनों मकानों में तलाशी ली। मकानों की कथित तौर पर वीडियोग्राफी भी की।

देविदर और उसके साथी आतंकियों से मिले सुरागों के आधार पर सुरक्षाबलों ने दक्षिण कश्मीर के गुलशनपोरा त्राल में तीन जगहों पर छापेमारी की। इसके अलावा श्रीनगर के बाहरी क्षेत्र नौगाम में स्थित एक डॉक्टर के मकान पर भी दबिश दी। अनंतनाग से जुड़े इस डॉक्टर का नाम कथित तौर पर मुदस्सर है। बताया जा रहा है कि नवीद बाबू इसके मकान में कई बार रुका। अलबत्ता, डॉक्टर का मकान बंद था। गेट पर ताला लगा हुआ था।

सूत्रों ने बताया कि देविदर और उसके आतंकी साथियों को दोपहर करीब डेढ़ बजे श्रीनगर से जम्मू लाया गया। अब आगे की पूछताछ जम्मू स्थित एनआइए कार्यालय में ही होगी। इस मामले की जांच के लिए दिल्ली से गत सप्ताह श्रीनगर पहुंचे एनआइए के आइजी समेत चार अन्य अधिकारी भी वापस लौट गए। हालांकि, एनआइए का पांच सदस्यीय दल जांच पूरी होने तक जम्मू कश्मीर में ही रहेगा। एनआइए या पुलिस ने देविदर सिंह को जम्मू स्थानांतरित किए जाने की अधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं की है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस