Move to Jagran APP

जम्‍मू कश्‍मीर के सभी स्कूलों में राष्‍ट्रगान अनिवार्य, सरकार ने जारी किए निर्देश; जानें इसके पीछे की वजह

जम्‍मू कश्‍मीर के स्‍कूलों में राष्‍ट्रगान अनिवार्य (National Anthem Compulsory in JK Schools) कर दिया गया है। सरकार ने केंद्र शासित प्रदेश के स्‍कूलों को ये निर्देश जारी कर दिए हैं। सभी स्‍कूलों पर नजर रखी जाएगी। स्कूल शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव ने एक परिपत्र के माध्यम से सभी स्कूलों को केंद्र शासित प्रदेश में सुबह की सभा को एक समान बनाने का निर्देश दिया।

By Agency Edited By: Himani Sharma Thu, 13 Jun 2024 03:51 PM (IST)
जम्‍मू कश्‍मीर के सभी स्कूलों में राष्‍ट्रगान अनिवार्य, सरकार ने जारी किए निर्देश; जानें इसके पीछे की वजह
जम्‍मू कश्‍मीर के सभी सकूलों में राष्‍ट्रगान अनिवार्य

पीटीआई, श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के स्कूलों में एक नई अनोखी पहल शुरू की गई है। केंद्र शासित प्रदेश के सभी स्‍कूलों में सुबह की सभा की शुरुआत राष्‍ट्रगान के साथ होगी। सरकार ने निर्देश जारी कर दिए हैं।

सुबह की सभा की शुरुआत राष्‍ट्रगान के साथ

स्कूल शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव ने एक परिपत्र के माध्यम से सभी स्कूलों को केंद्र शासित प्रदेश में सुबह की सभा को एक समान बनाने का निर्देश दिया। बुधवार को सर्कुलर जारी किया गया। जिसमें कहा गया कि मानक प्रोटोकॉल के अनुसार सुबह की सभा की शुरुआत राष्ट्रगान से होनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: Doda Terror Attacks: ज्यादा से ज्यादा जवानों को बनाना था टारगेट... डोडा में बड़ा जानी नुकसान करने की फिराक में थे आतंकी

शिक्षा विभाग ने कहा कि सुबह की सभाएं छात्रों के बीच एकता और अनुशासन की भावना पैदा करने में एक अमूल्य अनुष्ठान साबित होती हैं। उन्‍होंने कहा कि सुबह की सभाएं बच्‍चों के लिए नैतिक अखंडता, साझा समुदाय और मानसिक शांति के मूल्यों को पोषित करने के रूप में काम करती हैं। इसलिए ये अहम कदम उठाया गया है।

स्‍कूलों को दिए गए कड़े निर्देश

हालांकि, यह देखा गया है कि इस तरह के एक महत्वपूर्ण अनुष्ठान/परंपरा को जेके यूटी के विभिन्न स्कूलों में समान रूप से नहीं चलाया जा रहा है। वहीं अब विभाग ने सभी नियमों का पालन करने के स्‍कूलों को कड़े निर्देश दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें: Jammu Kashmir News: ताबड़तोड़ आतंकी हमलों के बाद पुलिस सक्रिय, किरायेदारों को लेकर पुलिस ने मकान मालिकों को दी सख्त कार्रवाई की चेतावनी

विभाग ने अतिथि वक्ताओं को आमंत्रित करने, पर्यावरण के बारे में जागरूकता पैदा करने और नशीली दवाओं के खतरे के खिलाफ स्कूलों को सुबह की सभाओं में शामिल करने के कुछ कदमों के रूप में सुझाव दिया।