राज्य ब्यूरो, श्रीनगर : सोशल मीडिया पर सक्रिय राष्ट्रविरोधी तत्वों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए पुलिस के साइबर सेल कश्मीर ने सोमवार को तीन युवकों को गिरफ्तार कर लिया।

यह तीनों विभिन्न चैनलों और अन्य जगहों पर उपलब्ध सुरक्षाबलों व आतंकियों के बीच मुठभेड़ों की पुरानी वीडियो फुटेज को अपने तरीके से पेश कर वादी में हालात बिगाड़ने की साजिश में जुटे मॉड्यूल का हिस्सा बताए जाते हैं।

एसपी साइबर सेल कश्मीर ताहिर अशरफ ने बताया कि सोशल मीडिया पर आतंकियों के महिमामंडन, हाल ही में कुलगाम में हुई मुठभेड़ को लेकर सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो, कुछ भ्रामक और भड़काऊ खबरों के मामले में सात एफआइआर दर्ज की गई है। कुलगाम मुठभेड़ के बाद पथराव और दो नागरिकों की मौत की झूठी खबर का वीडियो वायरल करने के मामले में तीन युवकों को पकड़ा गया है। इनमें से एक बारामुला और दूसरा श्रीनगर में रहता है। एक अन्य को दक्षिण कश्मीर से पकड़ा गया है। इन युवकों ने राष्ट्रीय न्यूज चैनल के यूटयूब पर उपलब्ध वर्ष 2016 का एक वीडियो डाउनलोड किया और उसमें कुछ एडिटिग की। इसके बाद उसे गत सप्ताह कुलगाम मुठभेड़ और उसके बाद हुए हिसक प्रदर्शनों का बताकर वायरल कर दिया।

एसपी ने बताया कि सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद दक्षिण कश्मीर में हालात तनावपूर्ण हो गए। पुलिस ने किसी तरह हालात को काबू किया। पकड़े गए तीनों युवकों ने मारे गए आतंकियों की तस्वीरों को भी अपलोड किया था। एसपी ने बताया कि इन युवकों की गिरफ्तारी से कई अन्य युवक आतंकी बनने से बच गए हैं। दोष साबित होने पर तीनों युवकों को कम से कम तीन साल की सजा होगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस