श्रीनगर, एएनआई। जम्मू और कश्मीर के श्रीनगर में क्षेत्रीय युवक सेना में भर्ती होने के लिए पहुंचे हैं। कमांडिंग ऑफिसर आरआर शर्मा ने कहा कि करीब 6500 युवा स्क्रीनिंग और फिजिक्स के लिए दिखाई दिए हैं। हमने लगभग 550 युवाओं को शॉर्टलिस्ट किया है। सभी परीक्षाओं के बाद, उन्हें 162 टेरिटोरियल आर्मी में शामिल किया जाएगा।

जानकारी के अनुसार कश्मीर के वादी में आतंकियों और अलगाववादियों द्वारा सेना व सुरक्षाबलों में भर्ती होने वालों को इस्लाम का दुश्मन करार देने, उनके सामाजिक बहिष्कार के लिए लोगों को फरमान सुनाने के बावजूद स्थानीय युवाओं में भारतीय सेना का हिस्सा बनने का जोश कम नहीं हो रहा है।

घाटी में सैंकड़ों की तादाद में युवा फौजी बनने के लिए सैन्य भर्ती सेंटर पहुंचे। इन युवाओं को काबू करने के लिए सैनिकों को भी कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। कमांडिंग ऑफिसर आरआर शर्मा ने बताया कि स्थानीय लोगों के आग्रह और स्थानीय युवाओं में फौज में भर्ती होने के जोश देखते बनता है।

जम्मू कश्मीर में प्रादेशिक सेना को टेरीटोरियल आर्मी अथवा टीए भी कहते हैं,  कुछ दिन पहले ही उत्तरी कश्मीर में एलओसी के साथ सटे जिला कुपवाड़ा में टीए की भर्ती आयाेजित की गई थी जिसमे दाे हजार स्थानीय युवकों ने हिस्सा लिया था। आज श्रीनगर में भर्ती रैली शुरु की गई है।

जानकारी हो कि रक्षा मंत्रालय ने इसी माह वादी में एक भर्ती रैली का आयोजन किया था। इस रैली में करीब पांच हजार स्थानीय युवकों ने हिस्सा लिया था जबकि कुल रिक्तियां सिर्फ 2780 ही थी। श्रीनगर और उसके साथ सटे इलाकों से बड़ी संख्या में युवक टीए का जवान बनने के लिए रैली स्थल पर सुबह सवेरे ही पहुंच गए थे। भीड़ इतनी थी कि रैली स्थल में दाखिल होने के गेट पर इन युवकों के बीच मारा-मारी की नौबत भी आ गई थी। उन्हें काबू करने के लिए सेना के जवानों को भी कड़ी मशक्कत करनी पड़ी।

स्थानीय युवकों ने कहा कि हम जिस रास्ते पर जाने के लिए तैयार हैं,वहां सिर्फ हक और इंसाफ की बात होगी। हमें अपने दुश्मन से लड़ने का मौका मिलेगा, हमें अपनी और अपने कश्मीर की हिफाजत के लिए जिहाद का मौका मिलेगा।

फिजिकल टेस्ट में पास रहन वालों को अगले चंद दिनों में एक लिखित परीक्षा में शामिल होना होगा। इस परीक्षा में सफल रहने वालों की मेरिट लिस्ट बनेगी और उसके आधार पर इन युवकों को भर्ती होगी। यहां मौजूदा लड़कों में बहुत से श्रीनगर शहर से ही संबंध रखने वाले हैं। यह उन लाेगों के लिए जवाब है जो यह कहते हैं कि घाटी में सिर्फ दूर दराज और ग्रामीण इलाकों के रहन वाले युवक ही फौज में भर्ती होते हैं। 

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप